पुलिसकर्मियों का वेतन बढ़ा पर दर्द बरकरार

  • पुलिसकर्मियों का वेतन बढ़ा पर दर्द बरकरार
You Are HereNational
Tuesday, November 12, 2013-3:43 PM

चंडीगढ़: वर्षों की लंबी जद्दोजहद के बाद गोहाना की शक्ति रैली में हरियाणा के करीब 55 हजार पुलिसकर्मियों के वेतन में हुआ 7 हजार रुपए का इजाफा भी पुलिसकर्मियों का दर्द नहीं कम कर सका है। इसलिए कि पड़ोसी राज्यों पंजाब व हिमाचल प्रदेश की तर्ज पर वेतनमान की मांग करने वाले हरियाणा के पुलिसकर्मियों को नए वेतन मिलने के बाद भी 2 से 3 हजार रुपए प्रति महीने का घाटा उठाना पड़ेगा। बताया गया कि पड़ोसी राज्यों की तुलना में हरियाणा के कांस्टेबल से लेकर इंस्पैक्टर तक के वेतन में करीब 10 हजार रुपए तक अंतर था, जो 7 हजार रुपए की घोषणा के बाद भी काफी कम है।

हालांकि पुलिसकर्मियों को काफी उम्मीद थी कि मुख्यमंत्री इस बार दरियादिली दिखाते हुए पंजाब के समान वेतन की मांग को जरूर पूरा करेंगे, लेकिन शायद भारी-भरकम बजट के कारण ऐसा संभव नहीं हो सका। बता दें कि पड़ोसी राज्यों पंजाब, हिमाचल प्रदेश और चंडीगढ़ की तरह से हरियाणा के पुलिसकर्मियों में समान वेतनमान करने की मांग की जा रही थी। पंजाब सरकार ने अपने पुलिसकर्मियों का वेतनमान बीते विधानसभा चुनावों से पहले हिमाचल प्रदेश और चंडीगढ़ पुलिस की तर्ज पर किया था। जहां चुनावों में अकाली दल को उसका लाभ भी मिला। कुछ उसी तरह से करीब डेढ़ साल पहले हरियाणा के पुलिसकर्मियों ने भी समान वेतनमान की मांग उठानी शुरू कर दी थी।

बीते विधानसभा सत्रों में भी विपक्षी दलों ने पुलिसकर्मियों के वेतन का मामला उठाया था। सरकारी स्तर पर लंबी मंत्रणा के बाद पुलिसकर्मियों के वेतनमान पर सहमति बनी, लेकिन गोहाना रैली में हुई घोषणा से पुलिसकर्मियों के मंसूबे पूरे नहीं हो सके। सूत्रों की मानें तो पुलिसकर्मियों को यह उम्मीद थी कि जिस तरह विधानसभा चुनाव से पहले अकाली सरकार ने पंजाब में वेतनमान बढ़ाया था, उसी तरह से हुड्डा सरकार भी पुलिसकर्मियों पर मेहरबानी दिखाएगी। खैर, सरकार ने मेहरबानी तो दिखाई पर पूरी नहीं। शायद यही कारण रहा कि सोमवार को पुलिस मुख्यालय के बाहर वेतनमान की चर्चा में खुशी के साथ-साथ गम भी नजर आया

दफ्तरी बाबुओं को नहीं मिलेगा वेतन का लाभ
गोहाना रैली में हुई पुलिसकर्मियों के वेतन बढ़ौतरी की घोषणा का लाभ पुलिस मुख्यालय व जिलों में बैठे दफ्तरी बाबुओं को नहीं मिलेगा। सरकारी सूत्रों की मानें तो इस वेतनमान में सिर्फ पुलिस की ट्रेनिंग करने यानी बैल्ट नंबर वाले कर्मियों को ही शामिल किया जाएगा। हालांकि अभी वित्त विभाग से इस संबंध में लिखित फरमान जारी होना बाकी है, जिसके बाद ही यह साफ हो पाएगा कि नया वेतन कब से लागू होगा और कौन-कौन शामिल होंगे? फिलहाल सोमवार को दिनभर मुलाजिमों में काम से ज्यादा वेतनमान बढऩे पर चर्चाएं होती रहीं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You