होगी बल्ली की बल्ले-बल्ले?

  • होगी बल्ली की बल्ले-बल्ले?
You Are HereNcr
Wednesday, November 13, 2013-11:12 AM

नई दिल्ली( अशोक शर्मा ): हरि नगर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा का टिकट कटने के बाद सुर्खियों में आए हरशरण सिंह बल्ली पर अब कांग्रेस ने डोरे डालने शुरू कर दिए हैं। बेशक कांग्रेस ने हरि नगर क्षेत्र से सुरेन्द्र कुमार सेतिया को अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया है लेकिन पता चला है कि अब पार्टी सेतिया की बजाए बल्ली के नाम पर ही गंभीरता से विचार कर रही है। इसकी मुख्य वजह यह है कि मुख्यमंत्री शीला दीक्षित भाजपा के इस गढ़ पर हर हालात में कब्जा करना चाहती हैं।

दरअसल प्रत्याशियों का चयन करने की प्रक्रिया में मुख्यमंत्री दीक्षित काफी असरदार रही हैं। पार्टी के विधायकों के अलावा एक-एक सीट पर उन्होंने जमीन से जुड़े कार्यकर्ताओं को ही आगे बढ़ाया है। इसका कारण यह है कि दिल्ली विधानसभा का चुनाव मुख्यमंत्री की साख का सवाल है और वह दिल्ली विधानसभा के चौथी बार हो रहे चुनाव में भी बहुमत हासिल करना चाहती हैं इसीलिए वह भाजपा के गढ़ में किसी सशक्त उम्मीदवार को खड़ा कर हरि नगर सीट को कांग्रेस के खाते में डालना चाहती हैं।

पता चला है कि एक माह पहले ही बल्ली को इस बात का आभास हो गया था कि भाजपा उनका टिकट काट सकती है। कांग्रेस के नेता  परमजीत सिंह सरना ने तभी उनसे मुलाकात कर कांग्रेस की ओर हाथ बढ़ाने के लिए कहा था लेकिन उस समय बल्ली खामोश रहे लेकिन अब उन्होंने मुख्यमंत्री दीक्षित से बातचीत की।

बल्ली से इस सम्बंध में जब बातचीत की गई कि क्या कांग्रेस आपको हरि नगर से प्रत्याशी बना रही है। उनका जवाब था कि जी हां, अब मैं जीवनभर कांग्रेस के लिए ही काम करूंगा। जब उनसे यह पूछा, कि आखिर किस नेता ने उन्हें कांग्रेस का प्रत्याशी बनाने का वादा किया है। इस पर कुछ सोचने के बाद वह बोले अभी मेरी किसी बड़े नेता से तो बातचीत नहीं हुई है लेकिन मेरे बड़े भाई परमजीत सिंह सरना ने मुख्यमंत्री से बातचीत कर ली है, तभी तो हरि नगर से घोषित कांग्रेस प्रत्याशी सेतिया का टिकट पैंङ्क्षडग में डाल दिया है। बल्ली ने कहा कि मैं कल-परसों में कांग्रेस पार्टी में शामिल हो जाऊंगा और फिर पार्टी के ही चुनाव चिन्ह पर लड़ूंगा।

पता चला है कि कांग्रेस ने सोमवार की देर रात जारी पार्टी  प्रत्यशियों की पहली सूची में सुरेन्द्र सेतिया को हरि नगर विधानसभा क्षेत्र से प्रत्याशी बनाया था लेकिन घोषणा के बाद हरि नगर इलाके के कांग्रेसी नेताओं ने ही नहीं बल्कि भाजपा के कार्यकत्र्ताओं ने भी आश्चर्य व्यक्त किया था। उनका कहना था कि यह बात समझ से बाहर है कि जो व्यक्ति इलाके में रहता तक नहीं है, उसे कांग्रेस ने किस आधार पर प्रत्याशी बना दिया है।

बताया जाता है कि सेतिया मानसरोवर गार्डन इलाके में रहते हैं, जो हरि नगर विधानसभा क्षेत्र से काफी दूर है। हालांकि बल्ली को उम्मीद थी कि कांग्रेस उम्मीदवारों की सूची में उनका नाम शामिल हो सकता है लेकिन ऐसा नहीं हुआ। कुछ लोगों का यहां तक कहना था यदि कांग्रेस भी बल्ली को टिकट नहीं देती है, तो उन्हें निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लडऩा चाहिए।


अकालियों और भाजपा ने कहा अस्वस्थ हैं हरशरण  सिंह बल्ली

 कभी टिकट बंटवारे को लेकर भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले अकाली दल बादल ने प्रत्याशियों के नाम की घोषणा के बाद भाजपा से सुर में सुर मिलाना शुरू कर दिया है। मंगलवार को दोनों ही पाॢटयों के प्रदेश अध्यक्षों ने संयुक्त प्रैसवार्ता कर न सिर्फ टिकट बंटवारे से लेकर प्रत्याशियों के नाम की घोषणा की बातें सांझा की, बल्कि भाजपा से बगावत करने वाले नेता हरशरण सिंह बल्ली को अस्वस्थ भी बता दिया।

प्रैसवर्ता में जी.के. से यह पूछा गया कि जब हरि नगर विधानसभा सीट से भाजपा नेताओं को ही प्रत्याशी बनाना था तो बल्ली से क्या परेशानी थी? उन्हें भी तो अकाली दल बादल अपने चुनाव चिन्ह से चुनाव लड़वा सकती थी तो जी.के. ने सीधे तौर पर कह दिया कि हमारा उद्देश्य चारों विधानसभा सीटों पर युवा प्रत्याशियों को उतारना था और इस लिहाज से बल्ली अस्वस्थ हो चुके हैं इसलिए भाजपा ने भी उनका टिकट काट दिया और हमने भी उन्हें उतारना मुनासिब नहीं समझा। हैरत की बात यह है कि जी.के. की इन बातों पर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विजय गोयल भी मुस्कुरा कर रहे गए, जबकि बल्ली की नाराजगी से संबंधित सवाल के जवाब में वही गोयल बल्ली को पार्टी का बड़ा नेता बताते हुए उन्हें मनाने की बातें करते रहे।




 

Edited by:Jeta

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You