टिकट वितरण में पुरबियों की उपेक्षा से रोष

  • टिकट वितरण में पुरबियों की उपेक्षा से रोष
You Are HereNational
Wednesday, November 13, 2013-1:09 PM

नई दिल्ली ( ताहिर सिद्दीकी): लंबे समय से पूर्वांचलवासियों पर डोरे डाल रही कांग्रेस ने अपनी पहली सूची में एक भी पुरबिया नेता को प्रत्याशी नहीं बनाया है। इससे राजधानी में रहने वाले पूर्वांचल के लोगों में खासा रोष है। पश्चिमी दिल्ली के सांसद महाबल मिश्रा ने भी पार्टी की सूची पर गहरी नाराजगी जताई है। उन्होंने इस मामले को पार्टी की मुखिया सोनिया गांधी के समक्ष उठाने की बात कही है।

पूर्वांचलवासियों को उम्मीद थी कि कांग्रेस अपनी सूची में पूर्वांचली नेताओं को समुचित स्थान देगी लेकिन पार्टी की सूची देख इनमें गहरी नाराजगी व्याप्त है। उनका कहना है कि करीब 35 लाख पूर्वांचलवासी दिल्ली में रहते हैं लेकिन एक भी पुरबिया नेता को प्रत्याशी बनाने लायक नहीं समझा गया, जबकि राजधानी में जाटों की जनसंख्या 10 फीसदी है लेकिन 10 जाट नेताओं को टिकट से नवाजा गया। वहीं गुर्जरों की संख्या 1.5 प्रतिशत हैं, मगर 5 गुर्जर नेताओं को सूची में स्थान दिया गया। इसे देखते हुए पुरबियों में विरोध के स्वर फूट पड़े हैं।
 

हालांकि पूर्वांचल के नेता टिकट के लिए लगातार दबाव बनाए हुए थे। किराड़ी से एस.के.पुरी, रिठाला से प्रदीप पांडेय,रोहिणी से ए.एन.तिवारी, संगम विहार से रंजीत सिंह जैसे नेता टिकट पाने के लिए प्रदेश अध्यक्ष जयप्रकाश अग्रवाल, मुख्यमंत्री शीला दीक्षित समेत वरिष्ठ नेताओं की लगातार गणेश परिक्रमा कर रहे थे लेकिन पार्टी ने इनमें से किसी को टिकट लायक नहीं समझा है, जिन सीटों पर अभी प्रत्याशियों की घोषणा नहीं की गई उन पर भी पूर्वांचल के नेता रेस में नहीं हैं।

प्रदेश कांग्रेस के एक उपाध्यक्ष और प्रदेश अध्यक्ष के करीबियों में शुमार इस नेता ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि बाकी सीटों पर भी पूर्वांचली नेता टिकटों की दौड़ में नहीं हैं। यह अलग बात है कि वे टिकट की आस में बड़े नेताओं की लगातार चक्कर लगा रहे हैं, उनका कहना है कि कांग्रेस का यह कदम आत्मघाती है।

इससे पुरबियों का कांग्रेस से मोहभंग होगा और वे पार्टी का साथ छोड़ सकते हैं। यह नेता स्वयं किराड़ी विधानसभा क्षेत्र, जहां पूर्वांचल के लोगों की अच्छी-खासी तादाद है, टिकट की आस लगाए बैठे थे। मगर पार्टी ने उनकी जगह पर प्रदेश युवा कांग्रेस के अध्यक्ष अमित मलिक को मैदान में उतारा है। उधर सांसद महाबल मिश्रा ने भी पार्टी की सूची पर क्षोभ जताया है। उन्होंने कहा कि वह इस मामले को राष्ट्रीय अध्यक्षा सोनिया गांधी के समक्ष उठाएंगे।

Edited by:Jeta

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You