ग्राम पंचायतों ने ली ‘बेटी जिंदाबाद’ की शपथ

  • ग्राम पंचायतों ने ली ‘बेटी जिंदाबाद’ की शपथ
You Are HereNational
Thursday, November 14, 2013-10:39 AM

नई दिल्ली: बाल दिवस की पूर्व संध्या पर देश के 10 राज्यों में 797 ग्राम पंचायतों ने विशेष ग्राम सभाओं के दौरान गिरते शिशु लिंग अनुपात के खिलाफ लिंग चयन न करवाने की लिखित शपथ ली। एक्शनएड इंडिया द्वारा 15 अगस्त से 14 नवम्बर, 2013 के बीच विभिन्न राज्यों में पंचायती राज विभाग के साथ मिलकर विशेष ग्राम सभाओं के दौरान गिरते शिशु लिंग अनुपात को प्रमुखता से उठाने की मांग की गई थी।

इसी क्रम में बिहार, हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात, ओडिशा, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु की 797 ग्राम पंचायतों ने विशेष ग्राम सभाएं आयोजित कर बेटी जिंदाबाद अभियान का समर्थन किया है। इस लिखित प्रस्ताव में गांव में किसी भी तरह का लिंग चयन न करने, लड़कियों को लड़कों के बराबर अवसर देने, उनके पालन-पोषण, पढ़ाई और स्वास्थ्य में किसी प्रकार का भेदभाव न करने की शपथ शामिल है।

साथ ही ग्राम पंचायतों में यह भी प्रस्ताव पास किया गया है कि लड़कियों और महिलाओं पर होने वाली हिंसा, अत्याचार और गैर बराबरी को खत्म किया जाएगा। ऐसे मामलों में तत्काल कानूनी कार्रवाई भी सुनिश्चित की जाएगी। इन ग्राम पंचायतों में से कुछ ग्राम पंचायतों के मुखिया गुरुवार को राजधानी में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के नेशनल मिशन फॉर इम्पावरमेंट ऑफ विमेन द्वारा आयोजित वात्सल्य मेले के दौरान प्रीतमपुरा स्थित दिल्ली हाट में नारी की चौपाल के दौरान उपस्थित रहेंगे।

गौरतलब है कि बिहार और आंध्र प्रदेश के पंचायती राज विभाग ने एक्शनएड इंडिया के ‘बेटी जिंदाबाद’ का समर्थन करते हुए राज्य के सभी जिलाधिकारियों और पंचायत प्रमुखों को विशेष ग्राम सभाओं के दौरान महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हिंसा और गिरते शिशु लिंग अनुपात को प्रमुखता से उठाने के लिए लिखित निर्देश भी जारी किए थे। ‘बेटी जिंदाबाद’ अभियान के बारे में एक्शनएड इंडिया के कार्यकारी निदेशक संदीप चचरा ने बताया कि यह अभियान लैंगिक समानता सुनिश्चित करने के उद्देश्य से शुरू किया गया है।

इस अभियान में पंचायतों, नागरिक समूहों, कॉलेज के छात्र-छात्राओं, चिकित्सक समूहों, पैरामेडिकल संगठनों, निर्वाचित प्रतिनिधियों आदि के साथ मिलकर महिलाओं एवं लड़कियों के अधिकारों को मानव अधिकारों की तरह सुनिश्चित करवाना है। हाल ही में इस अभियान से नोबेल शांति पुरस्कार प्राप्तकर्ता डेसमंड टूटू, प्रख्यात गीतकार और राज्यसभा सदस्य जावेद अख्तर, जानी मानी अभिनेत्री शबाना आजमी सहित कई लोग जुड़कर अपनी आवाज बुलंद कर रहे हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You