गीतिका कांड: जमानत नहीं बढ़वा रही अरुणा

  • गीतिका कांड: जमानत नहीं बढ़वा रही अरुणा
You Are HereNational
Thursday, November 14, 2013-4:52 PM

नई दिल्ली: गोपाल कांडा की सहयोगी अरुणा चड्ढा की अंतरिम जमानत रद्द करने की मांग वाली दिल्ली पुलिस की याचिका का निपटारा करते हुए दिल्ली उच्च न्यायालय ने कहा है कि अंतरिम जमानत अवधि 15 नवम्बर को खत्म हो रही है और उसने जमानत अवधि बढ़ाए जाने की मांग नहीं की है। ऐसे में इस मामले की कार्रवाई आगे बढ़ाने से कोई फायदा नहीं होने वाला है।

इससे पहले पुलिस ने एक याचिका दायर कर गोपाल कांडा व अरुणा  को दी गई अंतरिम जमानत रद्द करने की मांग की थी। कांडा अपनी अंतरिम जमानत की अवधि खत्म होने के बाद पहले ही आत्मसमर्पण कर चुका है।

अरुणा की जमानत अवधि 15 नवम्बर को पूरी हो रही है। हालांकि उसी दिन निचली अदालत अरुणा की नियमित जमानत अर्जी पर भी सुनवाई करेगी। न्यायमूॢत जे.आर. मिढ़ा ने कहा कि अरुणा की तरफ से अब तक अंतरिम जमानत को बढ़ाने के लिए कोई अर्जी दायर नहीं की गई है।

15 नवम्बर को उसकी अंतरिम जमानत अवधि खत्म हो रही है। उसी दिन निचली अदालत अरुणा की अर्जी पर अपना फैसला देगी। ऐसे में पुलिस की इस याचिका पर  सुनवाई का कोई फायदा नहीं है। 5 अगस्त 2012 को पूर्व एयरहोस्टेस ने अपने अशोक विहार में आत्महत्या कर ली थी। इसी मामले में गोपाल कांडा व अरुणा चड्ढा आरोपी हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You