16 नवंबर नौसेना में शामिल होगा INS विक्रमादित्य

  • 16 नवंबर नौसेना में शामिल होगा INS विक्रमादित्य
You Are HereNational
Thursday, November 14, 2013-6:16 PM

नई दिल्ली: भारत की समुद्री क्षमताओं को बढ़ाने के लिए तैयार विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य लंबे इंतजार के बाद अंतत: शनिवार को नौसेना का हिस्सा बन जाएगा और रक्षा मंत्री ए के एंटनी रूस की एक गोदी में इसे नौसेना में शामिल करेंगे। एंटनी कल रक्षा सचिव आर के माथुर सहित एक उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमंडल के साथ चार दिवसीय यात्रा पर रूस जाएंगे।

इस दौरान वह आईएनएस विक्रमादित्य को नौसेना में शामिल करने के बाद रूस के रक्षा मंत्री सर्जेई शोइगु के साथ सैन्य तकनीकी सहयोग पर भारत-रूस के अंतर सरकारी आयोग (आईआरआईजीसी-एमटीसी) की सह-अध्यक्षता करेंगे। आईएनएस विक्रमादित्य के लिए 2004 में राजग सरकार के दौरान करार हुआ था और इसे नौसेना में शामिल करने में पांच साल से ज्यादा की देरी हो चुकी है।

रक्षा मंत्रालय की एक विज्ञप्ति के अनुसार, ‘‘विमानवाहक पोत को नौसेना में शामिल करने का समारोह शनिवार को सेवरोदविंस्क में सेवमाश गोदी में आयोजित किया जाएगा और सोमवार को मॉस्को में आईआरआईजीसी-एमटीसी की बैठक होगी।’’ रूस के उप प्रधानमंत्री दिमित्री रोगोजिन रक्षा मंत्री शोइगू के साथ समारोह में शामिल होंगे। बैठक में दोनों पक्ष चालू और प्रस्तावित रक्षा परियोजनाओं पर तथा दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करेंगे।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You