पड़ोसी देशों से हों अच्छे रिश्ते बनाने के प्रयास: अखिलेश

  • पड़ोसी देशों से हों अच्छे रिश्ते बनाने के प्रयास: अखिलेश
You Are HereNational
Friday, November 15, 2013-11:22 AM

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पड़ोसी देशों विशेष रूप से हिमालय क्षेत्र के देशों से बेहतर और मजबूत सम्बन्ध बनाए रखने पर जोर देते हुए कहा कि हम अपना मित्र बदल सकते हैं, लेकिन पड़ोसी देश नहीं। इसलिए हर स्तर पर पड़ोसी देशों से अच्छे रिश्ते बनाने का प्रयास करते रहना चाहिए।

मुख्यमंत्री अखिलेश अपने सरकारी आवास 5- कालीदास मार्ग पर राष्ट्रीय श्रमजीवी पत्रकार यूनियन (आईएफडब्ल्यूजे) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं वरिष्ठ पत्रकार के$ विक्रम राव के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश के पत्रकारों के एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात कर रहे थे। राष्ट्रीय स्तर पर 105 सदस्यों का यह प्रतिनिधिमंडल एक सप्ताह के लिए सद्भावना मिशन पर भूटान देश की यात्रा पर जा रहा है, जिसमें 56 पत्रकार उत्तर प्रदेश से शामिल हैं।

मुख्यमंत्री अखिलेश ने आईएफडब्ल्यूजे के इस प्रयास की सराहना करते हुए कहा कि इस प्रकार की यात्राओं का आयोजन अन्य देशों के लिए भी किया जाना चाहिए। इससे दोतरफा संवाद, सद्भाव एवं एक-दूसरे को जानने एवं समझने का मौका मिलता है। पड़ोसी देश भूटान के नागरिकों में खुशहाली के स्तर की चर्चा करते हुए यादव ने कहा कि खुशहाली की सूची में भूटान राष्ट्र दुनिया में सबसे आगे है। भूटान द्वारा बड़े पैमाने पर उत्पादित की जा रही बिजली का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि भारत को अतिरिक्त विद्युत की आपूर्ति करके भूटान अपनी आर्थिक स्थिति सुधार रहा है। उन्होंने पड़ोसी देश नेपाल में जल विद्युत उत्पादन की अपार सम्भावनाओं का जिक्र करते हुए कहा कि नेपाल भी भूटान की तरह विद्युत उत्पादन का निर्यात कर सकता है।

यादव ने देश की सीमाओं मुख्य रूप से चीन से लगने वाली सीमा का उल्लेख करते हुए कहा कि हमारे देश की सीमाएं काफी असुरक्षित हैं। जर्मनी का उदाहरण देते हुए यादव कहा कि इससे कई देशों की सीमाएं मिलती हैं, लेकिन यह देश इतना ताकतवर है कि किसी देश को इसकी सीमा का अतिक्रमण करने की हिम्मत नहीं पड़ती जबकि हमारे देश से लगी चीन की सीमा से कई बार लोग आकर सुरक्षित वापस भी चले जाते हैं और हमें पता भी नहीं चलता। उन्होंने पड़ोसी देशों से बेहतर सम्बन्ध बनाने पर बल देते हुए कहा कि यूरोपीय देशों ने अपनी आर्थिक एवं सामाजिक जरूरतों को ध्यान में रखते हुए एक संगठन बनाया और उसका लाभ प्राप्त कर रहे हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You