छत्तीसगढ़ में नेताओं के बयान पर बवाल, आयोग सख्त

  • छत्तीसगढ़ में नेताओं के बयान पर बवाल, आयोग सख्त
You Are HereNational
Friday, November 15, 2013-11:55 AM

रायपुर: विधानसभा चुनाव के दौरान राजनीतिक गहमा-गहमी तेज हो गई है। दोनों प्रमुख पार्टियों कांग्रेस और भाजपा के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है। मतदाताओं को लुभाने के लिए नित नए बयान आ रहे हैं, जिसकी निंदा और खंडन दोनों पार्टियों के नेता अपने-अपने स्तर पर कर रहे हैं। चुनावी शोरगुल के साथ नेताओं की सभा व रैली आयोजित कर अपने पक्ष में माहौल बनाने की जोड़-तोड़ में लगे नेता के बयानों पर निर्वाचन आयोग की पैनी नजर है।

 

नरेंद्र मोदी ने छत्तीसगढ़ में एक रैली में कांग्रेस के निशान को ‘खूनी पंजा’ कहकर विवाद खड़ा किया था। कांग्रेस ने इसकी शिकायत निर्वाचन आयोग से की और कड़ी कार्रवाई की मांग की थी। कांग्रेस की शिकायत पर मोदी को निर्वाचन आयोग ने कारण बताओ का नोटिस देकर 16 नवंबर तक अपना जवाब देने को कहा था। कांग्रेस ने मोदी के गुरुवार को डोंगरगढ़ रैली में दिए गए भाषण की डीवीडी और एक अखबार की कतरन भी आयोग को भेजी है।

 

कांग्रेस ने कहा कि मोदी अनुचित शब्दों का प्रयोग कर रहे हैं, जो अपमानजनक है। वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी को आयोग ने ‘कारण बताओ’ नोटिस जारी किया। 24 घंटे के भीतर जवाब देने को कहा। कुनकुरी के कन्या विद्यालय के खेल मैदान में कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में हुई चुनावी सभा में अजीत जोगी ने यह कहकर विवाद खड़ा कर दिया था कि ईवीएम मशीन का एक नंबर बटन छोड़कर अन्य बटन दबाने से बिजली का करंट लग जाएगा।

 

उनके बयान के खिलाफ निर्दलीय प्रत्याशी डॉ. पी.सी. कुजूर ने निर्वाचन आयोग से शिकायत की थी। उधर, भाजपा महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष सरोज पांडेय ने यह कहकर विवाद खड़ा दिया कि कांग्रेस का विकास से छत्तीस का आंकड़ा है। पांडेय का यह बयान कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी के उस बयान के बाद आया, जिसमें उन्होंने कहा था कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार आई तो छत्तीस गुना विकास कराएगी। इस बीच, राज्य के गृहमंत्री ननकीराम की जुबान एक बार फिसल गई।

 

उन्होंने कांग्रेस के महासचिव दिग्विजय सिंह को ‘पागल’ कहकर विवाद खड़ा कर दिया।  कुछ दिन पहले ही भाजपा ने कांगेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के बयान की चुनाव आयोग से शिकायत की गई थी। राहुल ने कहा था कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई मुजफ्फरनगर के दंगा पीड़ित नौजवानों से संपर्क साध रही है। राहुल ने मुजफ्फरनगर दंगों का ठीकरा भाजपा के सिर फोड़ते हुए यह बयान दिया था। वह शिकायत का जवाब निर्वाचन आयोग को भेज चुके हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You