बिहार में ‘नमक’ पर राजनीति

  • बिहार में ‘नमक’ पर राजनीति
You Are HereNational
Friday, November 15, 2013-2:39 PM

पटना: बिहार में इन दिनों नमक  के मूल्य में हुई बेतहाशा वृद्धि को लेकर राजनीति शुरू हो गई है। सत्ता पक्ष और विपक्ष के नेता मूल्य वृद्धि को लेकर एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं परंतु राज्य के विभिन्न हिस्सों में लोगों को एक किलोग्राम नमक खरीदने के लिए 150 रुपये से ज्यादा चुकाने पड़ रहे हैं। सरकार हालांकि, नमक की कमी होने की बात कह रही है लेकिन लोगों को सरकार की बात पर भरोसा नहीं हो रहा है।

राज्य के दरभंगा, समस्तीपुर, मधुबनी से नमक की किल्लत की फैली अफवाह धीरे-धीरे राज्य के अन्य इलाकों में फैलती चली गई और लोग नमक खरीदने के लिए दुकानों पर टूट पड़े। नमक की मांग तेज होने के कारण दुकानदारों ने भी इसका जम कर फायदा उठाया और नमक की कीमत 150 रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच गई।

सरकार ने हालांकि, इसके बाद कालाबाजारियों के खिलाफ  छापेमारी प्रारंभ कर दी और 10 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया। इधर, नमक के दाम में वृद्धि होने के बाद राजनीति भी गरम हो गई। राज्य के खाद्य और उपभोक्ता संरक्षण मंत्री श्याम रजक कहते हैं कि अफवाह के कारण ऐसी स्थिति उत्पन्न हुई है। उन्होंने इसके पीछे सांप्रदायिक ताकतों का हाथ बताया। उन्होंने कहा कि इस तरह की पार्टियां जब गणेश जी को दूध पिलाकर देश में कोहराम मचा सकती हैं तो यह अफवाह भी फैला सकती हैं।

राज्य के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी कहते हैं, ‘पहले प्याज और फिर आलू और अब नमक के दाम में वृद्धि। सरकार हालात पर काबू पाने में नाकाम रही है और नाकामी छिपाने के लिए विपक्षियों पर दोष मढ़ रही है। उनके पास भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की आलोचना के सिवा कोई काम नहीं है।’  राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने नमक की कीमतों में वृद्धि का कारण भाजपा और जनता दल (युनाइटेड) के बीच विवाद को बताया है। राजद के नेता अब्दुल बारी सिद्दिकी कहते हैं कि नमक की कीमतों में वृद्धि भाजपा और जद (यू) में विवाद का नतीजा है। वह कहते हैं कि नमक के दाम में वृद्धि करने वालों के खिलाफ सरकार को सख्ती से निपटना होगा।

उल्लेखनीय है कि बिहार में नमक राजस्थान और गुजरात से आता है। एक आंकड़े के मुताबिक बिहार में प्रतिदिन 97,000 किलोग्राम से ज्यादा नमक की खपत होती है। आमतौर पर बिहार में विभिन्न ब्रांड्स का नमक 10 रुपये प्रति किलोग्राम से लेकर 16 रुपये प्रति किलोग्राम में बिकता है। इधर, नमक के बड़े व्यापारी भी मानते हैं कि राज्य में नमक की कोई कमी नहीं है। बिहार चैंबर ऑफ  कॉमर्स के पी के अग्रवाल कहते हैं राज्य में नमक की कोई किल्लत नहीं है। ऊंची कीमत वसूलने के लिए ऐसी अफवाह फैलाई गई है। खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के प्रधान सचिव शिशिर सिन्हा भी कहते हैं, ‘नमक का कोई संकट नहीं है। सभी जिलों में नमक की आपूर्ति पूरी तरह सामान्य है।’

उन्होंने लोगों से अफवाहों पर बिल्कुल ध्यान नहीं देने की अपील की है। इसके बावजूद भी लोग सरकार के बयानों पर विश्वास नहीं कर रहे हैं। पटना के नजदीक फुलवारी शरीफ  में भी कई स्थानों पर नमक 15 से 40 रुपये प्रति किलोग्राम तक बिकने की खबर है। फुलवारी शरीफ  के मोहम्मद मजहर कहते हैं, ‘सभी खाद्य सामग्रियों के दामों में वृद्धि हुई है। सरकार तो हर वक्त कहती है कि दाम में वृद्धि नहीं होगी परंतु दाम बढ़ते ही जा रहे हैं। ऐसे में नमक के दाम भी बढ़ जाएंगे तब हम क्या करेंगे? इसीलिए अभी ही नमक खरीद रहे हैं, बाद में इससे भी ज्यादा दाम बढ़ जाएंगे तब क्या करेंगे?’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You