‘मैंने सुनी फंसे यात्रियों की चीख-पुकार’

  • ‘मैंने सुनी फंसे यात्रियों की चीख-पुकार’
You Are HereNational
Friday, November 15, 2013-3:11 PM

नई दिल्ली: महाराष्ट्र में शुक्रवार सुबह दुर्घटना का शिकार हुई मंगला एक्सप्रेस में मौजूद रहे यात्री जयन का कहना है कि उन्होंने हादसे के दौरान फंसे हुए लोगों की चीख-पुकारें सुनीं।

गौरतलब है कि मध्य रेलवे के घोटी और इगतपुरी रेलवे स्टेशन के बीच नासिक के पहाड़ी इलाके में निजामुद्दीन (दिल्ली)-एर्नाकुलम मंगला एक्सप्रेस के चार डिब्बे पटरी से उतर जाने से चार यात्रियों की मौत हो गई। सुबह लगभग 6.30 बजे हुई इस घटना में 50 लोग घायल हुए हैं।

दिल्ली से केरल जा रहे हरियाणा के फरीदाबाद निवासी जयन ने कहा, ‘‘मैं सुबह दांत साफ कर रहा था, तभी मैंने तेज शोरगुल सुना।’’
जयन रेल के एस-7 डिब्बे में सवार थे। उनकी पत्नी रीनी ने कहा कि सुबह फोन करते वक्त उन्होंने उस भयावह घटना के बारे में बताया और उनके जहन में सबसे पहली बात यह आई कि वह सुरक्षित हैं।

उन्होंने एक न्यूज एजेंसी को बताया कि जयन रेलगाड़ी से कूद गए और पटरी से उतरे डिब्बे में फंसे घबराए लोगों की चीख-पुकारें उन्हें सुनाई दीं। रीनी ने कहा, ‘‘जयन ने मुझे बताया कि घटनास्थल पर बड़ी संख्या में लोग जमा हो गए हैं।’’

उन्होंने बताया कि जयन के मोबाइल की बैट्री खत्म हो जाने की वजह उनसे दोबारा संपर्क नहीं हो पाया है। जयन के मित्र कृष्णा ने बताया कि वह अब नासिक की तरफ जा रहे हैं ताकि वह अपनी आगे की यात्रा जारी रख सकें।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You