चिदंबरम ने जांच एजेंसियों से कहा, हर फैसले पर शक नहीं करें

  • चिदंबरम ने जांच एजेंसियों से कहा, हर फैसले पर शक नहीं करें
You Are HereNational
Friday, November 15, 2013-4:06 PM

मुंबई: जांच एजेंसियों को स्पष्ट संदेश देते हुए वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने आज कहा कि वे हर फैसले पर सवाल खड़ा नहीं करें क्योंकि यदि हर  फैसले को ‘‘किसी खास मंशा से प्रेरित अथवा दुर्भावनापूर्ण’’ माना जाने लगा तो कोई  भी कारोबार नहीं चल पाएगा।

उन्होंने कहा, ‘‘यदि हर फैसले को किसी खास मंशा से प्रेरित या दुर्भावनापूर्ण माना जायेगा तो कोई भी कारोबार नहीं चल सकता और कोई व्यक्ति फैसला नहीं कर सकता।’’ इस अवसर पर उन्होंने बैंकर्स को भी आश्वस्त किया कि सरकार तथ्यों और परिस्थितियों को देखते हुए लिए गए सही फैसलों पर उनका बचाव करेगी।

चिदंबरम ने कहा,  ‘‘पीछे मुड़कर देखें तो कुछ साल बाद इनमें से कुछ फैसले खराब नजर आ सकते हें लेकिन यदि संबंधित विभाग हर फैसले पर सवाल उठाता है और इसे किसी खास मंशा से प्रेरित या आपराधिक उद्देश्य से प्रेरित मानता है तो मुझे लगता है कि यह उक्त विभाग द्वारा लिया गया सबसे खतरनाक फैसला होगा। मैं सलाह दूंगा कि यह रवैया नहीं अपनाया जाना चाहिए।’’ उन्होंने यह बात बैंकों और अर्थशास्त्रियों के सम्मेलन बैन्कॉन को संबोधित करते हुए कही।

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इस सप्ताह की शुरआत में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के स्वर्ण जयंती समारोह में जांच एजेंसियों से नीतिगत मामलों में सतर्कता बरतने को कहा। उन्होंने कहा कि कोई फैसला जो पहले सही लगता है बाद में गलत भी हो सकता है। उन्होंने कहा कि निर्णय की गलती और आपराधिक कृत्य में फर्क किया जाना चाहिए। बैंकों को तथ्य और हालात के अनुसार निर्णय लेने का परामर्श देते हुए चिदंबरम ने कहा कि सरकार उनका पूरा बचाव करेगी।

उन्होंने कहा, ‘‘जहां तक सरकार का सवाल है तो मैं आपको आश्वस्त करता हूं कि यदि आपका फैसला सचाई और उस समय मौजूद हालात पर आधारित है... उचित स्तर व उचित समिति या उचित मंच के जरिए लिया गया है और आप अपने विवेक से इस पर सही निर्णय लेते हैं तो हम आपका बचाव करेंगे।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You