नहीं होगा प्रधानमंत्री दावेदार पर पुनर्विचार : राजनाथ

  • नहीं होगा प्रधानमंत्री दावेदार पर पुनर्विचार : राजनाथ
You Are HereNational
Saturday, November 16, 2013-7:34 PM

रायपुर: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने कहा कि कांग्रेस जितनी भी बेबुनियाद आरोप लगा ले मगर भाजपा प्रधानमंत्री पद के दावेदार नरेन्द्र मोदी के बारे में पुनर्विचार नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस समर्थित संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार पूरी तरह विफल साबित हो चुकी है और देश कांग्रेस से छुटकारा चाहता है।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने पत्रकारों से चर्चा के दौरान कहा कि भाजपा पांच में से चार राज्यों में चुनाव जीत रही है। छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में भाजपा सरकार हैट्रिक पूरा करेगी। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में भाजपा सरकार ने जिन विकास कार्यों को पूरा किया है उसे लेकर जनता के सामने जा रही है और इसका पूरा असर देखने को मिल रहा है।

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस स्वस्थ्य लोकतांत्रिक व्यवस्था तथा मर्यादा का उपयोग नहीं कर रही है। शुक्रवार को सोनिया गांधी ने कहा कि भाजपा दिवास्वप्न देख रही है। ऐसा प्रतीत होता है कि कांग्रेस को दिन में तारे नजर आ रहे हैं। राजनाथ सिंह ने कहा कि भाजपा सपना नहीं देखती भाजपा का लक्ष्य ज्ञान, विज्ञान में भारत को महान बनाने का है जिसके लिए वह प्रयत्नशील है।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस का डर्टी विंग आरोप लगाने के लिए सक्रिय हो चुका है और भाजपा से प्रधानमंत्री के दावेदार नरेन्द्र मोदी पर बेबुनियाद आरोप लगा रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस से देश यह जानना चाहता है कि उनका प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार कौन है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस जिस तरह आरोप लगाकर चुनाव लडऩा चाहती है उससे यह स्पष्ट हो रहा है कि वह हार मान चुकी है।

कांग्रेस जितने भी आरोप लगाए उससे भाजपा का मनोबल कमजोर होने के बजाए और मजबूत होगा, हम घबराने वाले नहीं है। राजनाथ सिंह ने कहा कि कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में मुफ्त चावल देने की बात कही है पर वे बताएं कि जिन राज्यों में कांग्रेस का शासन है वहां ऐसा क्यों नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की जनता स्वाभिमानी है और वह मुफ्त में चावल लेने पर विश्वास नहीं करती।

नक्सलवाद और आतंकवाद के बारे में उन्होंने कहा कि यह राष्ट्रव्यापी समस्या है। जिस वक्त इनकी शुरूआत हुई थी उसी वक्त इसे खत्म कर दिया जाता तो यह इस तरह पांव नहीं पसार पाता। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार के पास इनसे निपटने के लिए कोई कार्ययोजना और दृढ़ इच्छा शक्ति नहीं है। झीरम घाटी में हुए नक्सली हमले में एनआईए की जांच टीम को प्रदेश सरकार द्वारा पूरा सहयोग देने की बात उन्होंने कही।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You