कांग्रेस को जांच की मांग करने का कोई अधिकार नहीं: मीनाक्षी लेखी

  • कांग्रेस को जांच की मांग करने का कोई अधिकार नहीं: मीनाक्षी लेखी
You Are HereNational
Sunday, November 17, 2013-4:07 PM

नई दिल्ली: गुजरात सरकार द्वारा एक महिला की कथित जासूसी कराए जाने के मामले की जांच की मांग कर रही कांग्रेस पर भाजपा ने आज यह कहकर पलटवार किया कि कांग्रेस और उससे जुड़े लोगों ने मामले को सार्वजनिक कर एक अपराध किया है।

पार्टी प्रवक्ता मीनाक्षी लेखी ने कहा कि जब न तो मामले से जुड़ी महिला और न ही उसके परिवार के सदस्यों ने इस बारे में कुछ कहा है तो फिर कांग्रेस को जांच की मांग करने का कोई अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि महिला के संबंध में निगरानी वैध थी और यह शाह के आदेश पर की गई थी।

मीनाक्षी ने कहा, ‘‘हम स्पष्ट कारणों से मामले की प्रकृति का खुलासा नहीं कर सकते। इस बारे में कुछ भी अवैध नहीं था।’’ उन्होंने कांग्रेस पर एक निजी मामले को राजनीतिक लाभ के लिए सार्वजनक करने का आरोप लगाया।

भाजपा प्रवक्ता ने कहा, ‘‘यह कुछ और नहीं, बल्कि चरित्र हनन की कोशिश है । यदि किसी ने उसकी निजता और देश के कानून का उल्लंघन किया है तो वह कांग्रेस पार्टी और इससे जुड़े लोग हैं।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि टेप जारी करने वाली वेबसाइटें कांग्रेस के आदेश पर काम कर रही हैं। उन्होंने कहा कि समूचा घटनाक्रम मोदी की बढ़ती लोकप्रियता को लेकर कांग्रेस में बढ़ रही घबराहट का नतीजा है।

दो खोजी पोर्टलों, कोबरापोस्ट और गुलैल ने 15 नवंबर को दावा किया था कि गुजरात के पूर्व गृहमंत्री और मोदी के करीबी सहयोगी अमित शाह ने किसी ‘‘साहब’’ के आदेश पर एक महिला की अवैध जासूसी के आदेश दिए थे। पोर्टलों ने अपने दावे के समर्थन में शाह और एक आईपीएस अधिकारी के बीच हुई बातचीत का टेप भी जारी किया था, और कहा था कि इसकी प्रमाणिकता की पुष्टि नहीं हो सकी है।

कांग्रेस ने मामले में जवाबदेही तय करने के लिए प्रकरण की जांच उच्चतम न्यायालय के किसी वर्तमान या सेवानिवृत्त न्यायाधीश से कराए जाने की मांग की है। पार्टी ने मुद्दे पर नरेंद्र मोदी को निशाना बनाते हुए कहा कि यदि अवैध जासूसी का दावा सही पाया जाता है तो उन्हें प्रधानमंत्री पद के लिए भाजपा का उम्मीदवार होने का ‘‘कोई हक नहीं है।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You