शिवराज भाजपा के ‘फेंकू नंबर दो’ हो गए हैं: रावत

  • शिवराज भाजपा के ‘फेंकू नंबर दो’ हो गए हैं: रावत
You Are HereNational
Monday, November 18, 2013-1:16 PM

भोपाल: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं केन्द्रीय मंत्री हरीश रावत ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को ‘फेंकू नंबर दो’ करार देते हुए कहा कि वह आत्मप्रशंसा में हदें लांघकर अपनी पार्टी के नेताओं के योगदान को भी नकारने लगे हैं। राज्य विधानसभा चुनाव में पार्टी के केन्द्रीय पर्यवेक्षक रावत ने प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन में स्थानीय अखबारों में प्रकाशित एक विज्ञापन को आधार लेकरचौहान पर निशाना साधा।

 

विज्ञापन में चौहान की तस्वीर के साथ ‘पचास साल बनाम दस साल’ का नारा लिख कर कांग्रेस और भाजपा के शासन की तुलना की गई है। रावत ने कहा कि अभी तक नरेन्द्र मोदी को फेंकू की उपाधि हासिल हुई है। लेकिन शायद श्री लालकृष्ण अडवाणी ने चौहान को समझाया है कि मोदी ने फेंकू होने का एकाधिकार हासिल किया है तो तुम क्यों पीछे हो। शायद इसी के बाद चौहान ने इस विज्ञापन में जबरदस्त मिथ्या बात कही, जिससे साबित होता है कि वह निर्विवाद रूप से भाजपा के फेंकू नंबर दो हो गए हैं।

 

उन्होंने कहा कि भाजपा के इस ‘घोषणा बहादुर और विज्ञापन बहादुर’ मुख्यमंत्री को यह याद ही नहीं है कि मध्यप्रदेश को गठित हुए मात्र 57 साल हुए हैं और उनमें से 17 साल भाजपा या जनसंघ अथवा उनके समर्थन वाली सरकार सत्तारूढ़ रही है। उन्होंने कहा कि चौहान ने गणना में गंभीर चूक की है। इस तरह उन्होंने कांग्रेस के ही काम को नहीं बल्कि गोविन्द नारायण सिंह, वीरेन्द्र सकलेचा और सुन्दरलाल पटवा से लेकर उमा भारती के शासन तक को नकार दिया है।

 

रावत ने कहा कि चौहान के शासन काल को देखें तो कांग्रेस की सरकारें सिर्फ दो बातों ‘कानून व्यवस्था में गिरावट और भ्रष्टाचार’ को छोड़ कर हर बात में उनसे आगे रहीं हैं। उन्होंने चौहान को उनके विकास के दावों पर खुली बहस की चुनौती दी और कहा कि वह अपनी मर्जी से समय, स्थान और कांग्रेस का कोई भी नेता बहस के लिए चुन लें, पार्टी उनके दावों की हवा निकाल देगी।

 

वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने कहा कि मध्यप्रदेश में सर्वश्री अर्जुन सिंह, मोतीलाल वोरा, श्यामाचरण शुक्ल और दिग्विजय सिंह आदर्श मुख्यमंत्री रहे हैं और उन्होंने आदर्श शासन दिया है। उन्होंने कहा कि इन नेताओं की शासन पद्धति और शिवराज पद्धति की तुलना करें तो भ्रष्टाचार के मामले में शिवराज सरकार ने सारे रिकार्ड तोड़ दिए हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You