भारत में 18 फीसद लोग मुफ्त में काम करने को तैयार

  • भारत में 18 फीसद लोग मुफ्त में काम करने को तैयार
You Are HereNational
Monday, November 18, 2013-4:55 PM

नर्इ दिल्ली: दुनियाभर में भारतीय कर्मचारी अपनी नौकरी से सबसे ज्यादा संतुष्ट हैं। यहां तक कि पांच में से एक भारतीय कर्मचारी को अपनी नौकरी से इतना प्यार है कि वे बिना वेतन के भी काम करने को तैयार हैं। एक सर्वेक्षण में यह तथ्य सामने आया है। ऑनलाइन करियर व नियुक्ति समाधान प्रदाता मॉन्सटर वर्ल्डवाइड तथा वैश्विक बाजार अनुसंधान कंपनी जीएफके के सर्वेक्षण के अनुसार, करीब आधे यानी 55 फीसद भारतीय कर्मचारी अपनी नौकरी से प्यार करते हैं या उसे पसंद करते हैं।

नौकरी से खुशी की सूची में भारत तीसरे स्थान पर है। इस सूची में 64 प्रतिशत के आंकड़े के साथ कनाडा पहले व 57 प्रतिशत के साथ नीदरलैंड दूसरे स्थान पर है। यह सर्वेक्षण सात देशों में किया गया। 53 प्रतिशत के आंकड़े के साथ अमेरिका चौथे, 46 प्रतिशत के साथ ब्रिटेन पांचवे, 43 प्रतिशत के साथ फ्रांस छठे व 35 प्रतिशत के साथ जर्मनी सातवें स्थान पर है। इस अंतरराष्ट्रीय सर्वेक्षण में कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, भारत, नीदरलैंड, ब्रिटेन तथा अमेरिका के 8,000 से अधिक कर्मचारियों की राय ली गई।

सर्वेक्षण में कहा गया है कि 18 फीसद भारतीयों को अपनी नौकरी से इतना अधिक प्यार है कि वे मुफ्त में भी काम करने को तैयार हैं। सिर्फ 5 प्रतिशत भारतीय कर्मचारियों ने कहा कि उन्हें अपनी नौकरी पसंद नहीं है। एक भी भारतीय कर्मचारी ऐसा नहीं है, जिसे अपनी नौकरी से नफरत हो। सर्वेक्षण में एक और तथ्य सामने आया है कि पैसा से खुशी नहीं खरीदी जा सकती। भारी भरकम वेतन पाने वालों की तुलना में मध्यम स्तर के वेतन के दायरे में आने वाले कर्मचारी अधिक संतुष्ट हैं।

मध्य आय वर्ग के 60 फीसद यानी पांच में से तीन कर्मचारियों ने कहा कि उन्हें अपनी नौकरी से प्यार है। वहीं उच्च आय वर्ग के 52 फीसद कर्मचारियों ने यह बात कही। वहीं कम वेतन पाने वाले 47 फीसद कर्मचारी ही ऐसे थे, जो अपने काम से खुश हैं। मॉन्सटर.काम :भारत-पश्चिम एशिया दक्षिण पूर्व एशिया: के प्रबंध निदेश्का संजय मोदी ने कहा, ‘‘सर्वेक्षण के नतीजे मौजूदा कारोबारी परिदृश्य को दर्शाते हैं। इससे पता चलता है कि कर्मचारी सुरक्षित रहना चाहते हैं और किसी तरह का जोखिम नहीं लेना चाहते।’’ सर्वेक्षण में कहा गया है कि पैसे से खुशी नहीं खरीदी जा सकती। वेतन के मामले में मध्यम स्तर के कर्मचारी-अधिकारी उंचा वेतन पैकेज पाने वालों की तुलना में अधिक खुश हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You