अब तक नहीं बना 500 बैड का अस्पताल

  • अब तक नहीं बना 500 बैड का अस्पताल
You Are HereNational
Monday, November 18, 2013-8:26 PM

नई दिल्ली: दिल्ली के लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिले, इसी मकसद से दिल्ली सरकार और स्वास्थ्य विभाग ने द्वारका सैक्टर-9 में अस्पताल बनाने की योजना बनाई थी।

इसके लिए जमीन आबंटित होते ही विभाग द्वारा शिलान्यास व इसकी चारदीवारी भी करवा दी गई लेकिन अन्य सरकारी परियोजनाओं की तरह यह योजना भी सरकारी फाइलों में दब गई।

500 बैड का अस्पताल:
द्वारका सैक्टर-9 में कई वर्ष पहले सरकारी अस्पताल बनाने की योजना बनाई गई थी। 500 बैडों वालों इस अस्पताल के लिए 167 करोड़ की लागत का निर्धारण किया गया था।

परियोजना पर काम शुरू करने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के स्वास्थ्य सेवा निदेशालय के बजट आबंटन सैल ने 50 करोड़ की राशि को पहली किस्त के तौर पर मंजूरी दी थी।

द्वारका स्थित अपेक्षित अस्पताल के निर्माणकार्य के लिए दिल्ली विकास प्राधिकरण (डी.डी.ए.) ने सैक्टर-9 में 7.5 एकड़ की खाली जमीन स्वास्थ्य विभाग को दी थी। विभाग ने निर्माणकार्य की जिम्मेदारी लोक निर्माण विभाग (पी.डब्ल्यू.डी.) को सौंपी। निर्माणकार्य वर्ष 2011-12 के दौरान ही पूरा किया जाना था। द्वारका की आबादी इतनी ज्यादा है कि इसे उप-नगरी कहा जाता है।

वर्तमान में यहां पर 8-10 लाख लोग निवास करते हैं। बावजूद इसके यहां पर एक भी सरकारी अस्पताल नहीं है जिसके चलते यहां के लोगों को स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी से हमेशा ही जूझना पड़ता है।

अस्पताल के लिए निर्धारित स्थल पर चारदीवारी के भीतर निर्माणकार्य करने वाले पी.डब्ल्यू.डी. का एक दफ्तर है। इसके अलावा इसके सभी गेटों पर तालेबंदी की गई है। पी.डब्ल्यू.डी.के कार्यपालक अभियंता ओमप्रकाश ने बताया कि अस्पताल के निर्माणकार्य के लिए दिया टेंडर विभागीय कारणों से निरस्त कर दिया गया था।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You