फांसी की सजा उम्रकैद में हुई तब्दील

  • फांसी की सजा उम्रकैद में हुई तब्दील
You Are HereNational
Tuesday, November 19, 2013-9:31 PM

नई दिल्ली :एक तीन वर्षीय बच्ची को अपनी हवस का शिकार बनाने के बाद उसकी हत्या करने वाले एक अभियुक्त को राहत देते हुए दिल्ली उच्च न्यायालय ने उसकी फांसी की सजा को उम्रकैद में तब्दील कर दिया है।

अभियुक्त मुकेश कुमार ने बच्ची से दुष्कर्म करने के बाद चाकू से उसके शरीर के दो टुकड़े कर दिए थे। न्यायमूर्ति कैलाश गंभीर व न्यायमूर्ति इंद्रमीत कौर की खंडपीठ ने अपने फैसले में कहा कि तथ्यों के अनुसार अभियुक्त का न तो पुराना आपराधिक रिकार्ड है और न ही अभियोजन यह साबित कर सका है कि यह अपराध पूर्व नियोजित था।

अभियुक्त बच्ची के परिजनों का परिचित था और अनपढ़ था। ऐसे में इस अभियुक्त को सुधार का एक मौका दिया जाना चाहिए। इसलिए उसे दी गई फांसी की सजा को रद्द करते हुए उसे उम्रकैद की सजा दी गई।

पुलिस के अनुसार ओखला थाने की पुलिस ने एक महिला की शिकायत पर उसकी तीन वर्षीय बच्ची की गुमशुदगी का मामला 15 जून 2005 को दर्ज किया था। महिला का कहना था कि उसके पड़ोस में रहने वाला 22 वर्षीय युवक मुकेश कुमार उसकी तीन वर्षीय बेटी को टॉफी दिलाने के बहाने अपने साथ ले गया था।

जब बच्ची घर नहीं लौटी तो इसकी सूचना पुलिस को दी गई। बाद में पुलिस ने मुकेश को गिरफ्तार कर लिया। जब उससे पूछताछ की गई तो उसने अपना अपराध स्वीकार कर लिया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You