बागी उम्मीदवारों से कांग्रेस प्रत्याशियों को खतरा

  • बागी उम्मीदवारों से कांग्रेस प्रत्याशियों को खतरा
You Are HereNational
Tuesday, November 19, 2013-10:04 PM

नई दिल्ली(अशोक शर्मा): कांग्रेस के एक दर्जन से अधिक बागी उम्मीदवारों ने पिछले कुछ दिनों से पार्टी प्रत्याशियों की नींद उड़ा रखी है। कांग्रेस से नाराज होकर नामांकन दर्ज करने वाले कई नेता जेडीयू के टिकट पर मैदान में हैं जबकि कुछ ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में पर्चा दाखिल कर रखा है।

नामांकन वापिस लेने का बुधवार को आखिरी दिन है। प्रत्याशियों की धुकधुकी बढ़ रही है जबकि प्रदेश स्तर के नेताओं की टीम बागियों से मुलाकात कर उनके मान-मनौव्वल करने में जुटी हुई है। इसमें दोराय नहीं है कि पार्टी के नेता भी इस बात को अच्छी तरह  समझ रहे हैं कि बागी प्रत्याशी बेशक विजय हासिल नहीं कर पाएं, लेकिन वे पार्टी के अधिकृत उम्मीदवारों का चुनावी गणित बिगाड़ सकते हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए ही पिछले तीन दिनों से नेता बागियों को मनाने का हरसंभव प्रयास कर रहे हैं। देखना यह है कि उन्हें कितनी सफलता मिल पाती है।

जानकारी के अनुसार प्रदेश कांग्रेस के सचिव जवाहर लूथरा ने शकूरबस्ती से नामांकन दाखिल कर पार्टी के प्रत्याशी डॉ. एससी वत्स के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। इसी तरह से एक समय में उत्तम नगर के विधायक मुकेश शर्मा के खास रहे देशराज राघव ने आप के टिकट पर मोर्चा संभाला हुआ है।

बताया जाता है कि कुछ महीने पहले तक राघव को इलाके के लोग विधायक का चेला कहते थे, जो अब अपने गुरु को ही सबक सिखाने की बात कर रहे हैं।  राजौरी गार्डन से कांग्रेस ने इस बार धनवंती चंदेला को टिकट दिया है लेकिन यहां से कांग्रेस के पूर्व निगम पार्षद दुलीचंद लोहिया ने ही उन्हें चुनौती दे रखी है।

वहीं युवा कांग्रेस के महासचिव धीरज टोकस ने बागी उम्मीदवार के रूप में नामांकन दाखिल कर विधायक बरखा सिंह के खिलाफ झंडा उठा रखा है। यमुनापार के बाबरपुर क्षेत्र से पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ता फुरकान ने पीस पार्टी के प्रत्याशी बनकर चुनाव मैदान में हैं। इसी सीट पर सुनील वशिष्ठ भी पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी निगम पार्षद जाकिर खान के खिलाफ मैदान में उतरे हुए हैं। सुनील की पत्नी निगम पार्षद हैं और वह एक अर्से से कांग्रेस से जुड़े हुए हैं।

इसी तरह से सीलमपुर के पुराने कांग्रेसी अब्दुल रहमान बसपा के टिकट पर मैदान में डटे हैं। वह कांग्रेस प्रत्याशी चौ. मतीन को टक्कर देने की बात कर रहे हैं। ओखला सीट पर निगम पार्षद शोएब दानिश जेडीयू में शामिल हो गये हैं और उन्होंने पार्टी के प्रत्याशी आसिफ मोहम्मद को चुनौती पेश कर रखी है।

त्रिनगर सीट से कांग्रेस के सक्रिय कार्यकर्ता जितेन्द्र तोमर ने पार्टी के प्रत्याशी अनिल भारद्वाज के खिलाफ मोर्चा खोला हुआ है। करावल नगर क्षेत्र में सनतपाल दायमा को कुछ दिन पहले ही कांग्रेस में शामिल किया गया था। लेकिन अब वह निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ रहे हैं और उन्होंने पार्टी प्रत्याशी बेगराज को कड़ी चुनौती दे रखी है।

मालवीय नगर से प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ पदाधिकारी सुनील अत्रे ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशी के रूप में नामांकन दाखिल कर दिल्ली की मंत्री किरन वालिया को कड़ी चुनौती दे रखी है। घोंडा से रोहताश कुमार कांग्रेस प्रत्याशी भीष्म शर्मा के खिलाफ मैदान में हैं। रोहताश पहले बसपा में थे और कुछ दिन पहले ही उन्हें कांग्रेस में शामिल किया गया था। अब वह जेडीयू के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं।

इसी तरह संगम विहार इलाके से कांग्रेस के पूर्व विधायक शीशपाल जेडीयू के टिकट पर और द्वारका से पूर्व निगम पार्षद प्रमोद कुमार भी कांग्रेस के प्रत्याशी तस्वीर सोलंकी के खिलाफ बागी बनकर चुनाव में उतरे हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You