क्राई ने चुनाव में बच्चों को प्राथमिकता देने का अनुरोध किया

  • क्राई ने चुनाव में बच्चों को प्राथमिकता देने का अनुरोध किया
You Are HereRajasthan
Wednesday, November 20, 2013-6:00 PM

जयपुर: राजस्थान विधानसभा चुनाव के मद्देनजर प्रमुख बाल अधिकार संगठन क्राई चाइल्ड राइट्स एण्ड यू ने राज्य में बच्चों की स्थिति पर एक आधार श्वेत पत्र जारी किया है। यह श्वेत पत्र पिछले चुनावों के दौरान विभिन्न राजनीतिक पार्टियों द्वारा राजस्थान में लाखों बच्चों की जिंदगी में बदलाव लाए जाने के लिए किए गए वादों के विश्लेषण का एक प्रयास है।

क्राई का मकसद सभी हितधारकों को इस बारे में संवेदनशील बनाना है कि यह समय है जब हम अपने बच्चों के लिए अपनी प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करें। पिछले 10 वर्षों में किए गए कार्यक्रमों के बावजूद राजस्थान में बाल लिंग अनुपात घटा है। 2011 की जनगणना में यह प्रत्येक एक हजार लड़कों पर 633 लड़की रह गया। 6 से 35 महीने के बच्चों में एनीमिया की समस्या 70.1 प्रतिशत एनएफएचएस 3 हैं। ग्रामीण इलाकों में बाल मृत्यु दर राष्ट्रीय अनुपात से अधिक है। एक हजार बच्चों में से 40 बच्चे 28 दिन से अधिक नहीं जी पाते।

भारतीय राज्यों में महिला साक्षरता के मामले में राजस्थान का स्थान सबसे नीचे हैं। डा.रघुराम राजन की एक ताजा रिपोर्ट के अनुसार राजस्थान लीस्ट डेवलप्ड न्यूनतम विकसित राज्यों के तहत आता है। बाल श्रम के संदर्भ में राजस्थान शीर्ष 11 राज्यों में से एक है। सरकारी आंकडों के अनुसार राजस्थान किशोर 15-16 वर्ष में यौन अपराध के सर्वाधिक मामले दर्ज किए गए। ये ऐसी कुछ समस्याएं है जिन्हें दूर किए जाने के लिए तुरंत कदम उठाए जाने की जरुपरत है।

क्राई चाइल्ड राइट्स एंड यू राजस्थान के राज्य प्रमुख प्रवीण मल्होत्रा ने कहा कि यह सुनिश्चित किए जाने के लिए संगठित प्रयास की जररत है कि बच्चों की समस्याएं सुनी जाएं और उन्हें सभी स्तरों पर प्राथमिकता दी जाए। सभी राजनीतिक पार्टियां बच्चों को अधिकार धारकों के रप में देखें और उनके अधिकारों से संबद्ध मांगों को अपने चुनावी घोषणा पत्रों और कार्यक्रमों में शामिल करें। उन्होंने कहा हमें यह भी उम्मीद है कि नव निर्वाचित सरकार के साथ साथ विपक्षी पार्टियां भी पूरी ईमानदारी के साथ प्रतिबद्धता दिखाएंगी और अपने वादों को पूरा करेंगी।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You