युवती जासूसी मामला तूल पकडऩे लगा, अमित शाह चुप

  • युवती जासूसी मामला तूल पकडऩे लगा, अमित शाह चुप
You Are HereNational
Thursday, November 21, 2013-7:58 AM

नई दिल्ली: गुजरात में एक युवती की जासूसी कराए जाने का मामला जबरदस्त तरीके से तूल पकड़ता जा रहा है। वहीं इस मामले में आरोपों से घिरे गुजरात के पूर्व गृह मंत्री अमित शाह ने अब तक चुप्पी साधी हुई है।

कांग्रेस इस मुद्दे को लेकर जहां आक्रामक हो रही है वहीं भाजपा बचाव की मुद्रा में है। इस मुद्दे को लेकर जहां भाजपा बिफरी हुई है और कांग्रेस को धमका रही है, वहीं केन्द्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा कि इस मामले की जानकारी अर्जित की जा रही है और जरूरी हुआ तो उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश से जांच करवाई जाएगी। राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी गृह मंत्रालय से इस मामले की जांच कराने के लिए एक पत्र लिखा है।

शाह 21 नवम्बर को आगरा में प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी की रैली की तैयारियों के संबंध में आज आगरा में थे। मीडिया ने  इस मामले को लेकर अमित शाह से कई बार सवाल पूछे लेकिन उन्होंने लम्बी चुप्पी साध ली। गृह मंत्री शिंदे ने स्पष्ट किया कि गृह मंत्रालय को राष्ट्रीय महिला आयोग सहित कहीं से भी कोई ऐसा पत्र नहीं मिला जिसमें इस मुद्दे की जांच का आग्रह किया गया हो।

राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य निर्मला सावंत ने दावा किया है कि आयोग को युवती के पिता के नाम से जो चिट्ठी मिली है उसके स्रोत का कुछ अता-पता नहीं। यह संदिग्ध लगती है। हमने गृह मंत्रालय को पत्र लिखकर मामले की जांच करने को कहा है। भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेतली ने युवती की कथित जासूसी के मुद्दे पर कहा कि किसी महिला को सुरक्षा या संरक्षण देना जासूसी नहीं। इस मामले को उछालने के पीछे राजनीतिक मकसद दिखाई देता है।

भाजपा के प्रवक्ता प्रकाश जावड़ेकर ने कांग्रेस को आगाह किया कि वह गुजरात सरकार द्वारा एक महिला की कथित जासूसी की बात को उछालने से बाज आए वर्ना उसकी छिपी कारगुजारियों का खुलासा शुरू हुआ तो उसे मुंह छिपाने की कोई जगह नहीं मिलेगी। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You