व्यापम घोटाले की सीबीआई से जांच के आदेश क्यों नहीं: दिग्विजय

  • व्यापम घोटाले की सीबीआई से जांच के आदेश क्यों नहीं: दिग्विजय
You Are HereNational
Friday, November 22, 2013-8:45 AM

मुरैना: कांग्रेस महासचिव एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि मप्र व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापम) में व्याप्त भ्रष्टाचार में यदि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उनके साथी शामिल नहीं हैं तो वह व्यापम घोटाले की केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच के आदेश क्यों नहीं दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेताओं के पास झूठे वायदों का पिटारा है और वह प्रदेश की जनता को छलने के लिए किसी भी झूठ से परहेज नहीं कर रहे हैं।

 

उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री अब तक 8000 घोषणाएं कर चुके हैं जिन्हें पूरा करना तो दूर उन्हें अपनी घोषणाऐं याद तक नहीं है जबकि कांग्रेस ने जनता से जो वायदे किए हैं उन्हें पूरा करने में कभी पीछे नहीं रही। सिंह सुमावली विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस प्रत्याशी ऐंदल सिंह कंषाना के समर्थन में आयोजित एक चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने किसानों की समस्याओं को समझते हुए पांच हॉर्स पॉवर और एकल बत्ती कनेक्शन वायदे के साथ ही उपलब्ध कराए गए तो पिछड़ा वर्ग और महिलाओं को आरक्षण, युवाओं को बेरोजगारी भत्ता, झुग्गी झोंपडी में रह रहे गरीबों को पट्टे भी कांग्रेस ने ही दिलाए।

 

सिंह ने कहा कि सत्ता में न आने पर दस वर्ष तक चुनाव न लडऩे के वायदे पर भी वे स्वयं अटल रहे हैं। उन्होंने प्रदेश में सत्ता पर काबिज भाजपा पर प्रहार करते हुए कहा कि इस पार्टी के नेताओं ने हमेशा जनता को झूठ का झांसा दिया है। किसानों को थमाए गए झूठे बिजली के बिल इस बात की गवाही है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You