आतंकवाद के बावजूद लोगों में राजनीतिक इच्छाशक्ति अटल : उमर

  • आतंकवाद के बावजूद लोगों में राजनीतिक इच्छाशक्ति अटल : उमर
You Are HereNational
Friday, November 22, 2013-9:53 AM

श्रीनगर: जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने आज कहा कि राज्य में दशकों तक चले आतंकवाद के बावजूद लोगों की राजनीतिक इच्छाशक्ति में कमी नहीं आई है। अब्दुल्ला ने कहा कि नेशनल कांफ्रेंस के नेताओं द्वारा 1990 में अपनी मातृभूमि को राजनीतिक शून्यता की तरफ बढते देखना पार्टी नेतृत्व की कमजोरी नहीं थी बल्कि उस दौर में लगा कि पृथकतावादी नेता तेजी से उभर रहे हैं और इसमें राज्य के विकास के लिए कुछ नया देखने को मिलेगा लेकिन परिणाम सबके सामने है।

उन्होंने कहा कि पृथकतावादी ताकतें ठोस परिणाम नहीं दे सकी और उनके उभार के उस दौर में राज्य में खून खराबा होता रहा और लोगों के सामने समस्याओं का अंबार लगता रहा। उन्होंने कहा कि इन ताकतों की राज्य में बदलाव लाने की बात निराधार है। राज्य में एक बंकर को हटाने में सक्षम नहीं हुए और आज वही लोग दावा कर रहे हैं कि उनकी वजह से व्यवस्था में बदलाव आया है। अब्दुल्ला ने कहा कि आज यही लोग राज्य में बिजली और अन्य जनसमस्याओं के निदान की बात कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि बिजली पाकिस्तान से नहीं आएगी और न ही वहां के विदेश मंत्री अजीज सरताज से बात करने से आएगी1 विकास की यह प्रक्रिया व्यवस्था से जुडने से मिलेगी। उन्होंने कहा कि दोहरा चरित्र हमेशा घातक होता है और इससे बचकर ही रहा जाना चाहिए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You