मोदी देते हैं रटा-रटाया भाषण: मायावती

  • मोदी देते हैं रटा-रटाया भाषण: मायावती
You Are HereNational
Friday, November 22, 2013-4:12 PM

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने मुजफ्फरनगर दंगों के आरोपी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायकों संगीत सोम तथा सुरेश राणा को कल आगरा में हुई भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की रैली में सम्मानित किये जाने की आज कड़ी निन्दा की। मायावती ने यहां कहा, ‘‘लगभग सभी विरोधी पार्टियों के विरोध के बावजूद कल आगरा में भाजपा की रैली में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने मुजफ्फरनगर दंगों में शामिल अपने दो विधायकों को सम्मानित किया । बसपा इसकी कड़ी निंदा करती है।’’ उन्होंने कहा कि भाजपा के इस कदम से उत्तर प्रदेश में तनाव की स्थिति पैदा हो सकती है। अगर ऐसा होता है तो बसपा इसके लिए भाजपा के साथ सपा को भी बराबर का दोषी मानेगी क्योंकि सपा सकरार को भाजपा को इस तरह की रैली करने की इजाजत नहीं देनी चाहिये थी। जनता को ऐसे कृत्यों से सावधान रहना होगा।

मायावती ने राज्य सरकार पर दंगे करवाने का आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार ने शामली में हुए दंगों के पीड़ितों के पुनर्वास के लिये 90 करोड़ रुपए जारी करने की पक्षपातपूर्ण अधिसूचना जारी की, जिस पर उच्चतम न्यायालय ने भी रोक लगायी। इससे साबित है कि सपा सरकार भाजपा की मिलीभगत से दंगे करवाना चाहती है। उन्होंने राज्यपाल से उत्तर प्रदेश में बिगड़ी कानून-व्यवस्था के साथ इस घटनाक्रम को गम्भीरता से लेते हुए राष्ट्रपति शासन लागू करने की सिफारिश करने की मांग एक बार फिर की। मायावती ने नरेंद्र मोदी पर भी हमला करते हुए कहा कि मोदी रटा-रटाया भाषण देते हैं और जहां भी जाते हैं, वहां के स्थानीय मसलों को उठाते हैं मगर उन्हें यह भी ध्यान देना चाहिये कि पूर्व में प्रदेश और केन्द्र में भाजपा की कई सालों तक सरकारें रही हैं तब उसने प्रदेश में इन समस्याओं पर ध्यान क्यों नहीं दिया। मोदी को यहां आकर अगर किसी को कोसना है तो अपनी पार्टी के नेताओं को कोसें।

 उन्होंने मोदी को सलाह देते हुए कहा, ‘‘बेहतर होगा कि मोदी यहां आकर हवाई बातें करने के बजाय गुजरात में भाजपा से जुड़े महिला जासूसी कांड को लेकर अपने मधुर वचनों से पूरे देश के भाई बहनों को स्पष्टीकरण दें, लेकिन दुख की बात यह है कि इस मामले में अभी तक मोदी ने मुंह तक नहीं खोला है। मायावती ने कहा कि बसपा चाहती है कि उच्चतम न्यायालय इस मामले का संज्ञान ले और दोषी लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करे ताकि इस प्रकरण की पूरी सचाई देशवासियों के सामने आ सके। आगे चलकर कोई सरकार अपने तंत्र का दुरुपयोग करने की हिम्मत ना जुटा सके। बसपा अध्यक्ष ने अपनी महिला सहकर्मी से कथित यौन दुव्र्यवहार करने के आरोपी तहलका पत्रिका के सम्पादक तरुण तेजपाल को सख्त से सख्त सजा देने की मांग की।

मायावती ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर टिप्पणी करते हुए कहा, ‘‘मेरी सरकार के खिलाफ जब सपा सरकार को मुद्दा नहीं मिलता है तो उसका मुखिया यहां स्मारकों को लेकर अकसर रोनाधोना शुरू कर देता है। यह साजिश है ताकि प्रदेश की जनता का ध्यान बिगड़ी कानून वयवस्था से हटाया जाए लेकिन जनता इस साजिश को अच्छी तरह समझ चुकी है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You