आसाराम की एक से अधिक बीवियां, दस्तावेज खोल रहे पोल!

  • आसाराम की एक से अधिक बीवियां, दस्तावेज खोल रहे पोल!
You Are HereNational
Saturday, November 23, 2013-5:15 AM

जोधपुर: नाबालिगा यौन शोषण केस में पकड़े जाने के बाद से ही आसाराम खुद को निर्दोष बता रहे हैं लेकिन एक के बाद एक हो रहे खुलासों में ऐसा दस्तावेज सामने आया है जिससे एक और पोल खुल गई है कि आसाराम की एक से अधिक पत्नियां हैं। उक्त खुलासा धोखे से जमीन हथिया कर करवाए करार से हुआ।  

आसाराम के फर्जीवाड़े की शुरूआत कच्छ के बिट्टा गांव से 1997 में हुई थी। बिट्टा गांव के 3 भाई देवजी, शंकरलाल और हिरजी मूलजी भानुशाली की 10 एकड़ जमीन, आसाराम ने सिर्फ एक ध्यान कुटिया बनाने के लिए मांगी थी। 2007 में जब आसाराम के लोगों ने उनके आने के पहले जमीन साफ करने के लिए कचरा जलाना शुरू किया तब आग बेकाबू हो गई और आसपास की 300 एकड़ जमीन की उपज जल कर राख हो गई। जब ये तीनों भाई मुआवजे की अर्जी डालने गए तब उनको पता चला कि उनकी पूरी 10 एकड़ जमीन तो आसाराम ने अपने नाम करवा ली है।

इतना ही नहीं, अपने आप को किसान भी दर्ज करवा लिया था और  खेत सर्वे नं. 368 (1) और (2) के वारिसों में 4 नाम भी दर्ज करवा दिए। ये नाम हैं-लक्ष्मी बेन आसाराम (64), पत्नी नारायण आसाराम (38) बेटा, भारती बेन आसाराम (35) बेटी, शिल्पी बेन आसाराम (39) पत्नी। बिट्टा गांव से 3 कि.मी. दूर आसाराम ने पहले अपनी ध्यान कुटिया बनाई जो आज खंडहर में तबदील हो चुकी है। बड़े भाई हिरजी भाई का कहना है कि आसाराम ने धोखे से स्टाम्प पेपर पर ऐसा करार भी करवा लिया कि उसने वह सर्वे नंबर 368 वाली 10 एकड़ जमीन उनसे 7,500 प्रति 5 एकड़ खरीद ली है। बर्बाद होकर वह बदहाली की जिंदगी जीने को मजबूर हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You