गीतिका आत्महत्या मामला : उच्च न्यायालय ने निचली अदालत के न्यायाधीश की खिंचाई की

  • गीतिका आत्महत्या मामला : उच्च न्यायालय ने निचली अदालत के न्यायाधीश की खिंचाई की
You Are HereNational
Saturday, November 23, 2013-5:34 PM

नर्इ दिल्ली: दिल्ली उच्च न्यायालय ने हरियाणा के विधायक गोपाल कांडा के खिलाफ यौन हमले के आरोप पर आगे सुनवाई करने के लिए निचली अदालत के न्यायाधीश की खिंचाई की जबकि इसी न्यायाधीश ने अपने फैसले में एयर होस्टेस गीतिका शर्मा आत्महत्या मामले में विधायक के उपर से आरोप हटा दिये थे।
 
न्यायमूर्ति जी पी मित्तल निचली अदालत की व्याख्या से अप्रसन्न हो गये। निचली अदालत ने व्यवस्था दी दी कि इस घृणित अपराध का आरोप कांडा के खिलाफ अभी तक लगाया जा सकता है क्योंकि वह सह आरोपी अरूणा चड्ढा की तरह उच्च न्यायालय नहीं गया। अरूणा की याचिका पर ही उस पर लगे बलात्कार के लिए उकसाने एवं अप्राकृतिक बलात्कार के आरोप खारिज कर दिये गये।

चड्ढा की याचिका पर फैसला देते हुए उच्च न्यायालय ने कहा कि हरियाणा के पूर्व मंत्री एवं मामले के प्रमुख आरोपी कांडा के खिलाफ भी आरोप टिक नहीं सकते। न्यायमूर्ति मित्तल ने कहा, ‘‘मैं उस तरीके से बेहद चिंतित हूं जिस तरह से जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने उच्च न्यायालय के आदेश की व्याख्या की थी। जिला अदालत में जिस तरह से चीजें चल रही हैं, वह काफी अजीब है।’’ उन्होंने निचली अदालत के दो आदेशों को खारिज कर दिया।
 
कांडा की एमएलडीआर एयरलाइंस की 23 वर्षीय पूर्व कर्मी गीता पिछले साल उत्तर पश्चिमी दिल्ली के अशोक विहार स्थित अपने निवास पर पांच अगस्त को मृत पायी गयी थी। उसने चार अगस्त को लिखे अपने सुसाइड नोट में यह आरोप लगाया था कि वह कांडा और चड्ढा द्वारा तंग किये जाने के कारण अपनी जान दे रही है। दोनों ने ही इन आरोपों से इंकार किया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You