एचएसडीसी पर हरियाणा सरकार के दावे का खेमका ने किया विरोध

  • एचएसडीसी पर हरियाणा सरकार के दावे का खेमका ने किया विरोध
You Are HereNational
Saturday, November 23, 2013-5:34 PM

चंडीगढ़: विवादास्पद वरिष्ठ आईएएस अधिकारी अशोक खेमका ने हरियाणा सरकार के इस दावे का विरोध किया है कि हरियाणा बीज विकास निगम के प्रमुख पद पर उनके रहने के दौरान लाभ में कमी आई थी। उन्होंने कहा कि दूसरी एजेंसियों द्वारा ‘‘ठगी को उन्होंने रोका ।’’ खेमका 15 अक्तूबर 2012 से चार अप्रैल 2013 तक हरियाणा बीज विकास निगम (एचएसडीसी) के प्रबंध निदेशक थे।

संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा और रियल इस्टेट कम्पनी डीएलएफ के बीच जमीन सौदे की तब्दीली को भूमि अधिग्रहण के विशेष कलेक्टर के रूप में रद्द करने के बाद उनका तबादला एचएसडीसी में किया गया था। एक सरकारी विज्ञप्ति में कहा गया, ‘‘...वर्ष 2012-13 के दौरान लाभ का मुख्य कारण ग्वार के बीजों के बाजार दर में अचानक बढ़ोतरी होना रहा जिसे मई 2012 के दौरान एचएसडीसी ने बेचा था, तब विकास यादव एचएसडीसी के प्रबंध निदेशक थे ।’’

विज्ञप्ति में कहा गया, ‘‘निगम को सिर्फ ग्वार के बीज बेचने से 341 लाख (3.41 करोड़) रुपये का लाभ हुआ था। अशोक खेमका के कार्यकाल में यह लाभ कम होकर 175. 96 लाख(1 . 76 करोड) रुपये रह गया। इसलिए खेमका अपने पूर्ववर्ती की तुलना में अच्छे प्रदर्शन का दावा नहीं कर सकते ।’’
     
इसने कहा कि खेमका के कार्यकाल के दौरान एचएसडीसी को कुल 56 लाख रूपये का नुकसान केवल तीन महीने में 87 हजार क्विंटल प्रमाणीकृत गेहूं की बिक्री नहीं होने से हुआ। खेमका ने मीडिया को भेजे ई-मेल में राज्य सरकार के दावे का विरोध किया था । हालांकि उन्होंने कहा था कि उनके ‘‘विचार निजी हैं ।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You