तहलका यौन उत्पीडऩ मामला: तरुण तेजपाल ने खटखटाया HC का दरवाजा

  • तहलका यौन उत्पीडऩ मामला: तरुण तेजपाल ने खटखटाया HC का दरवाजा
You Are HereNational
Monday, November 25, 2013-11:51 AM

नई दिल्ली/पणजी: यौन शोषण के आरोप में फंसे पत्रकार तरुण तेजपाल ने आज दिल्ली हाई कोर्ट में अग्रिम जमानत की अर्जी दायर की है। जिसपर मंगलवार (26 नवंबर) को सुनवाई होगी। इस बीच मामले की पीड़िता का बयान आज दर्ज हो सकता है। वहीं गोवा पुलिस कल मैगजीन के 3 कर्मियों से पूछताछ के बाद लौट गई। पुलिस ने तीनों कर्मियों से इसलिए पूछताछ की क्योंकि घटना के बाद पीड़िता ने उन्हीं को पूरी बात बताई थी। पुलिस तीनों कर्मियों से पूछताछ कर पीड़िता के बयान और उनके बयान में मेल देखना चाहती थी। जांच टीम अपने साथ एक हार्ड डिस्क और कुछ दस्तावेज भी ले गई।

अटकलें लगाई जा रही थीं कि 3 सदस्यीय पुलिस टीम तरुण तेजपाल से पूछताछ कर सकती है और हो सकता है कि उन्हें गिरफ्तार भी करे। हालांकि पुलिस टीम तेजपाल से पूछताछ किए बिना ही गोवा लौट गई। पुलिस ने कल शाम 4:45 बजे से लेकर तड़के 2:00 बजे तक करीब 9 घंटे ‘तहलका’ की प्रबंध संपादक शोमा चौधरी से पूछताछ की थी। दक्षिण दिल्ली के ग्रेटर कैलाश-2 स्थित ‘तहलका’ के दफ्तर में शोमा से पूछताछ हुई थी। जांच टीम अपने साथ एक सी.पी.यू. और कुछ दस्तावेजों के अलावा वे ई-मेल भी ले गई जिनका आदान-प्रदान शोमा, पीड़ित पत्रकार और तेजपाल के बीच हुआ था।  

सुत्रों अनुसार इसके अलावा पुलिस ने शोमा के मोबाइल फोन, एक आई-पैड और उनके लैपटॉप को भी खंगाला।  दूसरी ओर, राष्ट्रीय महिला आयोग ने मुम्बई पुलिस से कहा है कि वह पीड़िता को सुरक्षा मुहैया कराए। आयोग ने यह भी कहा कि महिला पत्रकार को आगे आकर अपना मामला पुख्ता तरीके से पेश करना चाहिए।  पणजी में पुलिस उप-महानिरीक्षक (डी.आई.जी.) ओ.पी. मिश्रा ने कहा कि जांच टीम ने अभी तेजपाल से संपर्क नहीं किया है।

मिश्रा ने कहा, ‘‘मैं अभी ऐसी कोई जानकारी नहीं दे सकता जिससे जांच प्रभावित हो सकती हो। हम सही दिशा में बढ़ रहे हैं।’’

डी.आई.जी. ने कहा कि सोशल मीडिया में कई ऐसी चीजें आ रही हैं जो ऐसे व्यापक सिद्धांतों के खिलाफ हैं जिनका पालन यौन उत्पीडऩ़ के मामलों में करना चाहिए। उन्होंने कहा कि पीड़िता को मुम्बई में मैजिस्ट्रेट के सामने अपने बयान दर्ज करवाने होंगे।

मिश्रा ने कहा कि मीडिया को इस मामले में शामिल संवेदनशीलता को समझना चाहिए और ऐसा कुछ भी नहीं करना चाहिए जिससे पीड़िता की गरिमा को ठेस पहुंचती हो।  उधर तेजपाल पर खबरें रुकवाने का भी आरोप लग रहा है।  ‘मुम्बई मिरर’ के पत्रकार शोरिष भट्टाचार्य ने खुलासा किया है कि अरुण तेजपाल ने गोवा के माइनिंग माफिया तथा पत्रकार रमण किरपाल की खबरें रुकवाई थीं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You