कृष्णा नगर में भितरघात से परेशान कांग्रेस

  • कृष्णा नगर में भितरघात से परेशान कांग्रेस
You Are HereNcr
Monday, November 25, 2013-2:32 PM

नई दिल्ली: विधानसभा चुनाव में कृष्णा नगर सीट भाजपा और कांग्रेस दोनों के लिए प्रतिष्ठा का विषय बन चुकी है। भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार डॉ. हर्षवर्धन चौथी बार अपनी सीट पर जीत के लिए प्रयासरत हैं। वहीं भाजपा के पूर्व पार्षद रहे कृष्णा नगर से कांग्रेस उम्मीदवार डॉ वी.के . मोंगा, हर्षवर्धन को चुनौती देने के लिए मैदान में ताल ठोक रहे हैं।

वे कांग्रेस के विश्वसनीय कार्यकर्ताओं के साथ घर-घर जाकर कांग्रेस को भारी समर्थन देने की अपील कर रहे हैं। कठिन मेहनत व लगन से मतदाताओं को अपनी ईमानदार छवि का परिचय दे रहे हैं। लेकिन कार्यकर्ताओं का ये समूह जो डॉ. वी.के. मोंगा के साथ होकर भी उनके साथ नहीं  है।

गौरतलब है कि 2007 में घोंडली वार्ड से निगम पार्षद रही दीपिका खुल्लर को कांग्रेस ने उम्मीदवार नहीं बनाया तो बागी हो कर आजाद उम्मीदवार चुनाव जीत गई। सन 2008 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने कृष्णा नगर से डॉ. हर्षवर्धन को चुनौती देने के लिए दीपिका खुल्लर को कांग्रेस प्रत्याशी बनाया।

कांग्रेस विरोधी समूह के कार्यकर्ताओं ने दीपिका खुल्लर को हराने का षडय़ंत्र रच कर मामूली मतों से पराजित कराया। कृष्णा नगर क्षेत्र में यह प्रथा चल पड़ी है कि यदि महत्वाकांक्षी कार्यकर्ताओं को उम्मीदवार नहीं बनाया तो कांग्रेस को हार का स्वाद चखा देते हैं।

निगम चुनावों में कांग्रेस प्रत्याशी विजय कुमार गिरोत्रा को बागी उम्मीदवार के रूप में पूर्वी दिल्ली सांसद के रूप में पूर्व कांग्रेस पार्षद बंसीलाल ने हराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इस चुनाव में भी कांग्रेस टिकट के दावेदार कांग्रेस उम्मीदवार डॉ. मोंगा की जड़े खोदने में व्यस्त हैं। वर्तमान गीता कॉलोनी के पार्षद बंसीलाल भाजपा के चुनाव प्रचार में खुले रूप से कूद पड़े हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You