जासूसी कांड: राष्ट्रपति को सौंपा ज्ञापन

  • जासूसी कांड: राष्ट्रपति को सौंपा ज्ञापन
You Are HereNational
Monday, November 25, 2013-8:55 PM

नई दिल्ली: गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी के कथित निर्देश पर एक महिला की जासूसी करने पर कड़ी आपत्ति जताते हुए कांग्रेस सहित चार राजनीतिक दलों ने आज राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को एक ज्ञापन सौंपा और पूरे मामले की न्यायिक जांच की मांग की।

अनहद की शबनम हाश्मी ने मोदी के नजदीकी और गुजरात के पूर्व गृह राज्य मंत्री अमित शाह पर आरोप लगाया है। हाशमी ने कहा है कि अमित शाह ने  गुजरात के मुख्यमंत्री के निर्देश पर भारतीय टेलिग्राफ अधिनियम और भारतीय दंड संहिता का उल्लंघन करने व शाह के कहने पर एक युवती, उसके दोस्तों और परिचितों के विरुद्ध अवैध जासूसी का गोरखधंधा चला कर संविधान और वैधानिक शक्तियों का उल्लंघन किया है।

उन्होंने बताया कि इस संबंध में 30 सामाजिक संस्थानों और 4 राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपा है। इसमें मांग की गई है कि गुजरात में हुई इस जासूसी के लिए कथित तौर पर जिस तरह पूरी राज्य मशीनरी, स्थानीय आईबी और एटीएस का दुरूपयोग किया गया उसकी न्यायिक जांच होनी चाहिए।

महिला कांग्रेस अध्यक्ष शोभा ओज़ा ने कहा कि राष्ट्रपति ने व्यक्गित रूप से ज्ञापन को स्वीकार किया है और उम्मीद जताई है कि कार्रवाई होगी। एनी राजा ने कहा कि ये किसी के व्यक्गित मामले नहीं हैं। ये सब राजनीति मुद्दे हैं। यह हमारे देश के लोकतंत्र और संविधान के संरक्षण के लिए बुहत जरूरी है। सभी राजनीतिक दलों को दलगत राजनीति से उपर उठकर इस मामले को लेना चाहिए।

इस जासूसी कांड मामले में निलंबित आईएएस अधिकारी प्रदीप शर्मा ने आरोप लगाया है कि मोदी से घनिष्ठ संबंध रखने वाली युवती की गुजरात पुलिस ने जासूसी की। हाश्मी ने कहा कि भाजपा को इस मामले पर पर्दा डालने के प्रयास नहीं करने चाहिए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You