बच्चों की मौत मामला: आसाराम के सात शिष्यों पर आरोप तय

  • बच्चों की मौत मामला: आसाराम के सात शिष्यों पर आरोप तय
You Are HereNational
Tuesday, November 26, 2013-11:22 AM

अहमदाबाद: गुजरात में अहमदाबाद की अदालत ने बलात्कार के मामले में जेल में बंद आसाराम के सात शिष्यों के खिलाफ वर्ष 2008 में यहां के आश्रम के नजदीक दो बच्चों के शव मिलने के सिलसिले में आरोप तय किये हैं। मुख्य मेट्रोपालिटन मजिस्ट्रेट एस वी प्रकाश आसाराम के आश्रम में रहने वाले छात्रों दीपेश और अभिषेक वाघेला की मौत के मामले में सात शिष्यों पंकज सक्सेना.योगेश भाटी (अजय शाह) विकास खेमका, मिन केतन पात्रा और कौशिक वाणी के खिलाफ आरोप तय किये हैं।

आपराधिक जांच ब्यूरो (सीआइडी) ने सभी सातों के खिलाफ पहले इरादतन हत्या का मामला दायर किया गया था लेकिन गुजरात उच्च न्यायालय ने प्राथमिकी पर सवाल उठाने जाने के बाद इरादतन हत्या का मामला वापस लेने का निर्देश दिया था1 इसके बाद सीआइडी ने भारतीय दंड संहिता की धारा 304.ए.के तहत मामला दर्ज किया था। उल्लेखनीय है कि पांच जुलाई 2008 में दोनों नाबालिग छात्रों की लाश क्षत विक्षत हालत में आश्रम के नजदीक साबरमती नदी के पास पाई गई थी। तीन जुलाई की रात से दोनों लापता थे1 परिजनों ने आश्रम पर जादू, टोना के कारण छात्रों की बलि देने का आरोप लगाया था। राज्य सरकार ने भारी जनाक्रोश के कारण मामले की जांच सीआईडी को सौंपा थी।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You