बिजली संकट के लिए केंद्रीय सार्वजनिक उपक्रम जिम्मेदार: जया

  • बिजली संकट के लिए केंद्रीय सार्वजनिक उपक्रम जिम्मेदार: जया
You Are HereNational
Tuesday, November 26, 2013-6:57 PM

चेन्नई: तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे. जयललिता ने राज्य में बिजली की खराब होती स्थिति के लिए केंद्रीय सार्वजनिक उपक्रमों को जिम्मेदार ठहराया और प्रधानमंत्री के हस्तक्षेप की मांग की ताकि अधिकतम बिजली आपूर्ति हो सके। उन्होंने कहा कि 2,500 मेगावाट बिजली की कटौती के लिए केंद्रीय सार्वजनिक उपक्रम जिम्मेदार हैं जिसके कारण राज्य में बिजली की किल्लत हुई।

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को लिखे पत्र में बिजली की कटौती का जिक्र करते हुए जयललिता ने कहा कि इसके लिए सीधे तौर पर केंद्रीय सार्वजनिक उपक्रमों को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनके द्वारा पिछले महीने विधानसभा में 2014 तक राज्य को अतिरिक्त बिजली मुहैया कराने के वायदे के बाद से बिजली की स्थिति में लगातार गिरावट आ रही है। आज यहां जारी 25 नवंबर को लिखे पत्र में कहा ‘‘विश्लेषण से जाहिर होता है  कि यह मुख्य तौर पर केंद्रीय उत्पादन इकाइयों में उत्पादन में कमी के कारण हुआ जिनमें हमारा एनटीपीसी के साथ संयुक्त उद्यम भी शामिल है।’’
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You