तहलका मामला: बयान के दौरान महिला पत्रकार ने पूछा, क्या मुझे न्याय मिलेगा

  • तहलका मामला: बयान के दौरान महिला पत्रकार ने पूछा, क्या मुझे न्याय मिलेगा
You Are HereNational
Wednesday, November 27, 2013-1:03 PM

नई दिल्ली: तहलका के संपादक तरुण तेजपाल के यौन उत्पीड़ऩ़ की शिकार महिला पत्रकार ने बिते मंगलवार को गोवा पुलिस के सामने अपना बयान दर्ज करवाते हुए फूट-फूटकर रोने लगी। बयान पूरा होने के बाद महिला पत्रकार पूछने लगी कि क्या मुझे न्याय मिलेगा। गोवा पुलिस के सूत्रों के मुताबिक जब बयान दर्ज हो रहा था तब 23 वर्षीय पीड़ित बहुत दुखी और परेशान नजर आ रही थी। इस दौरान उसने गोवा में तहलका मैगजीन के थिंक फेस्ट के दौरान 7 और 8 नवंबर को हुई घटनाओं का ब्यौरा दिया।

ये सब घटनाएं साउथ गोवा के बैंबोलिम बीच पर स्थित ग्रांड हयात होटल में हुई थीं। ये बयान दर्ज करने के लिए एक महिला अधिकारी मुंबई के उपनगर में स्थित महिला पत्रकार के घर पहुंची थी। सवा दो घंटे तक चली इस प्रक्रिया के दौरान पत्रकार ने यह भी कहा कि उसे इस मामले में तहलका की प्रबंध संपादक शोमा चौधरी ने किसी भी तरह की मदद नहीं की।

मजिस्ट्रेट के सामने पीड़िता का बयान दर्ज कराने के लिए गोवा पुलिस महिला पत्रकार को गोवा लेकर जा रही है। सात पन्नों के इस बयान में महिला पत्रकार ने तरुण तेजपाल द्वारा दो बार किए गए यौन उत्पीड़ऩ़, उसकी शिकायत और दूसरे ब्यौरे दिए। शिकायत के साथ ईमेल के जरिए तरुण तेजपाल और महिला पत्रकार द्वारा दिया जा रहा बयान भी संलग्न किया गया है।

वहीं दुसरी ओर, तरुण तेजपाल को देश छोडऩे से रोकने के लिए सभी आव्रजन पोस्टों को सतर्क कर दिया गया है। यह जानकारी एक अधिकारी ने मंगलवार को दी। गोवा के पुलिस महानिदेशक ओ. पी. मिश्र ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘देश छोडऩे से पहले उन्हें हमें सूचित करना होगा।’’  तेजपाल पर तहलका में काम करने वाली उनकी एक कनिष्ठ महिला सहयोगी ने यौन उत्पीड़ऩ़ का आरोप लगाया है। मिश्र ने कहा कि पीड़िता उनका पूरा सहयोग कर रही है। गोवा पुलिस की टीम ने पीड़िता का औपचारिक रूप से बयान दर्ज किया है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You