सोशल मीडिया ने मप्र विधानसभा चुनाव में बढाया मतदान का प्रतिशत

  • सोशल मीडिया ने मप्र विधानसभा चुनाव में बढाया मतदान का प्रतिशत
You Are HereNational
Thursday, November 28, 2013-1:38 PM

भोपाल: मध्यप्रदेश में ऐतिहासिक 72.52 प्रतिशत वोटिंग निर्वाचन आयोग द्वारा मतदाताओं की अधिकाधिक भागीदारी के लिए चलाए गए कार्यक्रम और अभियान प्रजातंत्र को मजबूत करने के लिए काम कर रहे गैर सरकारी संगठनों और विशेष रूप से सोशल मीडिया के सकारात्मक हस्तक्षेप का परिणाम है। राज्य चुनाव प्रक्रिया से जुडे विशेषज्ञों ने यह व्यक्त की है। उल्लेखनीय है कि चुनाव आयोग ने मतदाताओं को मतदान की प्रक्रिया के लिए प्रशिक्षित करने और मतदान में उनकी भागीदारी बढ़ाने के लिए विशेष कार्यक्रमों की श्रृंखला चलाई थी।

 

इसमें प्रजातंत्र की मजबूती के लिए काम कर रहीं संस्थाओं और सोशल मीडिया की सक्रिय भागीदारी रही। साथ ही बौद्धिक वर्ग भी इससे जुड़ा। पहली बार वोट डाल रहे युवाओं का समूह सोशल मीडिया से जुड़ा है और इंटरनेट, मोबाइल,फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब, ईमेल और व्हाटसअप जैसे साधनों सुविधाओं का उपयोग कर रहा है। मोबाइल आधारित लिखित संदेश और वाइस एसएमएस ने भी मतदाताओं को प्रेरित किया।

 

सोशल मीडिया के आगमन के पहले मध्यप्रदेश में 1990 से पहले के हुए नौ विधानसभा चुनावों में कभी भी मतदान 55 प्रतिशत से उपर नहीं पहुंचा। मध्यप्रदेश विधानसभा सामान्य निर्वाचन 2013 के लिए जिला निर्वाचन अधिकारियों ने भी चुनाव आयोग के स्वीप कार्यक्रम के लिए अपने फेस बुक अकाउंट बनाए।

 

विधानसभा चुनाव के मीडिया सहयोगी और सोशल मीडिया के प्रचारक के रूप काम कर रहे न्यूज पोर्टल ने मतदाताओं को शिक्षित करने के अभियान के अंतर्गत जगह-जगह सूचनात्मक स्टाल लगाए थे। इनमें समाज के विभिन्न वर्गों ने भ्रमण किया। बच्चे भी अपने अभिभावकों के साथ आये और चुनाव प्रकिया जानने की उत्सुकता जाहिर की।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You