लालू सामाजिक न्याय के स्वभाविक नेता नहीं: जदयू

  • लालू सामाजिक न्याय के स्वभाविक नेता नहीं: जदयू
You Are HereNational
Friday, November 29, 2013-10:25 AM

पटना: बिहार में सत्तारूढ़ जनता दल यूनाईटेड(जदयू) ने आज कहा कि राष्ट्रीय जनता दल (राजद) को नीतीश सरकार पर सामाजिक न्याय और अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा करने में विफल होने का आरोप लगाने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है। बिहार के खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव श्याम रजक तथा ग्रामीण कार्यमंत्री भीम सिंह ने यहां सयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राजद को सामाजिक न्याय और अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा के संबंध में कुछ भी कहने का नैतिक अधिकार नहीं है।

उन्होंने आरोप लगाया कि राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव सामाजिक न्याय के स्वभाविक रूप से प्रणेता नहीं है बल्कि उन्हें सामाजिक न्याय के लिए हुए आंदोलन का लाभ मिल गया। रजक और सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री सही मायने में सामाजिक न्याय के प्रणेता रहे है। उन्होंने कहा कि अपने लम्बे राजनैतिक जीवन मे कुमार ने कई ऐसे ठोस कदम उठाये जिससे समाज के कमजोर तबकों के जीवन मे आमूलचुल परिवर्तन आया। उन्होंने कहा कि पंचायती राज और नगर निकाय संस्थाओं में कुमार ने ही अपने साहसिक निर्णय से अति पिछड़ा वर्गो और महिलाओं को भी आरक्षण दिया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You