महिला प्रत्याशियों ने लगाया दम, हम नहीं हैं किसी से कम

  • महिला प्रत्याशियों ने लगाया दम, हम नहीं हैं किसी से कम
You Are HereNcr
Friday, November 29, 2013-2:07 PM

नई दिल्ली (सतेन्द्र त्रिपाठी):  दिल्ली विधानसभा के चुनाव में इस बार 3 प्रमुख पार्टियों की महिला उम्मीदवारों ने अपनी जीत के लिए पूरा दमखम लगा दिया है। सुबह से लेकर देर रात तक  महिला प्रत्याशी घर-घर जाकर वोट मांग रही हैं। उनका चुनाव प्रचार किसी भी मायने में पुरुष प्रत्याशियों से कम नहीं दिखाई पड़ रहा है। इन महिला प्रत्याशियों का दावा है कि वह किसी से कम नहीं है।

चुनावी लड़ाई में कांग्रेस की   महिला प्रत्याशियों को पुराने अनुभव का फायदा मिल रहा है। कांग्रेस में 2 दिग्गज प्रत्याशी हैं। इनमें एक हैं मुख्यमंत्री शीला दीक्षित और दूसरी शिक्षा मंत्री किरण वालिया। भाजपा ने मालवीय नगर से अपनी दिग्गज प्रत्याशी आरती मेहरा को उतारा है। वह अपने भाषणों से लोगों को प्रभावित कर रही हैं। वह दिल्ली की मेयर भी रह चुकी हैं। उनका मुकाबला  कांग्रेस की महिला मंत्री किरण वालिया से है।

2 महिलाओं के बीच की जबरदस्त भिड़ंत प्रचार में ही दिखाई पड़ रही है। कस्तूरबा नगर शिखा राय (भाजपा) का दावा है कि इस बार इस इलाके में कमल खिलेगा। वह कांग्रेस विधायक नीरज बसोया की सत्ता को हिलाने के लिए जोर-शोर से महिलाओं के दिलों में जगह बनाने में लगी हुई हैं। पूर्णिमा विद्यार्थी, पटेल नगर, सुशीला बागड़ी,  सुलतानपुरी व रजनी अब्बी, तिमारपुर से दम लगा रही हैं। रजनी अब्बी को पूर्व में मेयर रहने के फायदा मिलने का अनुमान है। वह अपने धारदार भाषण से लोगों की वाहवाही बटोर रही हैं।

कांग्रेस के दमदार प्रत्याशियों में नई दिल्ली से खुद मुख्यमंत्री शीला दीक्षित तो पूरी दिल्ली में घूम-घूमकर कांग्रेस के लिए वोट मांग रही हैं। जनकपुरी से रागिनी नायक भाजपा के दिग्गज जगदीश मुखी की नींद हराम करने में लगी हुई है। वह डी.यू. स्टाइल में चुनाव प्रचार कर रही हंै। डूसू की पूर्व अध्यक्ष अमृता धवन भी विकासपुरी में विकास के दावे के साथ मैदान में हैं। वह दिनभर में तमाम इलाकों में पदयात्रा करके वोट मांग रही हंै।

राजौरी गार्डन से धनवंती चंदेला तो काम के नाम पर वोट मांग रही हैं। उनका तो पूरा परिवार ही राजनीति में माहिर है। आप पार्टी की आर.के. पुरम की प्रत्याशी शाजिया इल्मी का प्रचार तो देखने लायक होता है।  वह खुद जोरशोर से नारे लगाकर जनता व कार्यकत्र्ताओं को उत्साहित करती हैं। स्टिंग के विवाद से उन्हें कुछ नुक्सान जरूर हुआ है।

बल्लीमरान सीट से फरहाना अंजुम का दावा है कि पिछड़े इलाके के वोटरों पर उनका वर्चस्व है। वह सब लोग उनका जमकर साथ देंगे और इस बार वह इकलौती मुस्लिम महिला प्रत्याशी जीतकर आएंगी। कस्तूरबा नगर से सुनीता खुराना तो महिलाओं को आकर्षित करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही हैं।

वह अपना चुनाव चिन्ह झाडू लेकर महिलाओं को दिखाती हैं कि जैसे घर में झाडू काम आती है वैसे वह उनके लिए काम करेगी। मंगोलपुरी (सुरक्षित सीट) राखी बिरला, पटेल नगर (सुरक्षित) से वीना आनंद, शालीमार बाग से वंदना  कुमारी और पालम से भावना गौड़ भी विरोधी प्रत्याशियों को जमकर चुनौती दे रही हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You