सीधे मुकाबले में आप से नुकसान किसको?

  • सीधे मुकाबले में आप से नुकसान किसको?
You Are HereNcr
Saturday, November 30, 2013-1:25 PM

वेस्ट दिल्ली (राजन शर्मा): क्षेत्रफल के हिसाब से मटियाला दिल्ली के कुछ बड़े विधानसभा क्षेत्रों में से एक है। यह विधानसभा क्षेत्र 2008 में परिसीमन के बाद अस्तित्व में आया है। इस बार  विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के सुमेश शौकिन और भाजपा के राजेश गहलौत के बीच कड़ी टक्कर है।

वैसे आम आदमी पार्टी के गुलाब सिंह यहां अनधिकृत कॉलोनियों में रह रहे लोगों पर छाप छोडऩे में फिलहाल दोनों उम्मीदवारों से थोड़ा आगे है।ऐसे में आप के उम्मीदवार किस पार्टी को नुक्सान करने वाले हैं, यह कहना अभी थोड़ा मुश्किल है लेकिन क्षेत्र में जनता के कई अहम मुद्दे हैं जिन पर जनता इन नेताओं की कड़ी परीक्षा लेने के मूड में है।

वहीं, इलाके में सत्ता की चाबी 100 से ज्यादा अनधिकृत कॉलोनियों में रह रहे लोगों के हाथों में है। जहां लोगों को आज भी बुनियादी सुविधाओं के बिना जीना पड़ रहा है। इनमें से 90 कॉलोनियां ऐसी है, जहां आज तक लोगों को सीवर लाइन की सुविधा नसीब नहीं हुई है। उधर, पेयजल का मुद्दा अनधिकृत कॉलोनियों और पॉश द्वारका के विभिन्न सैक्टरों में एक समान है। दोनों जगह टैंकरों से पानी की सप्लाई की जाती है। स्वास्थ्य सुविधाओं के नाम पर अस्पताल नहीं केवल डिस्पैंसरियां ही मौजूद हैं।

ऐसे में क्षेत्र में विकास के दावे खोखले नजर आते हैं। उम्मीदवारों की बात करें तो भाजपा ने पेयजल की समस्या को हथियार बनाया है तो आप के उम्मीदवार अनधिकृत कॉलोनियों सीवर लाइन न होने को मुद्दा बनाया है लेकिन कांग्रेस उम्मीदवार सड़कों और कुछ कॉलोनियों में सीवर लाइन डालने के काम को लेकर जीत का दावा  कर रहे हैं।

इतिहास: 2008 में परिसीमन के बाद अस्तित्व में आई नई सीट है। 2008 में कांग्रेस के सुमेश शौकिन ने भाजप की कमलजीत सहरावत को 6629 वोट से हराकर सीट पर कब्जा जमाया।

समस्या: मुख्य समस्या यहां अनाधिकृत कॉलोनियों में सीवर लाइन व पेयजल की कमी है। क्षेत्र में टैंकरों से पानी की सप्लाई की जाती है। जिनकी संख्या आबादी के हिसाब से कम है तो 90 कॉलोनियों में लोग आज भी सीवर लाइन की सुविधा से महरूम हंै। दूसरी मुख्य समस्या पॉश द्वारका उपनगरी में सरकारी अस्पताल न होना है। यहां विभिन्न सैक्टरों में लगभग 6 लाख की आबादी है, जिसके लिए अस्पताल बनाने की परियोजना का शिलान्यास कई बार किया गया लेकिन अस्पताल आज तक नहीं बना।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You