प्रतिष्ठा का विषय बनी राजौरी गार्डन सीट

  • प्रतिष्ठा का विषय बनी राजौरी गार्डन सीट
You Are HereNcr
Sunday, December 01, 2013-2:36 PM

नई दिल्ली (सुनील पाण्डेय): दिल्ली के पश्चिमी छोर में पड़ती राजौरी गार्डन विधानसभा सीट इस बार खास चर्चा में है। वजह है कि इस सीट पर शिरेामणि अकाली दल (बादल) का करोड़पति प्रत्याशी मनजिंदर सिंह सिरसा मैदान में हैं। उसके खिलाफ कांग्रेस ने वर्तमान विधायक दयानंद चंदेला की पत्नी धनवंती चंदेला को उतारा है। चंदेला पिछले 2 बार से जीत रहे हैं।

यह सीट दोनों दलों के लिए प्रतिष्ठा का विषय बन गई है। तीसरा प्रत्याशी आम आदमी पार्टी का था लेकिन उसकी सदस्यता उसकी ही पार्टी ने छीन ली, लिहाजा वह मैदान से हट गया है। हालांकि, एक प्रत्याशी और भी है, जो वोटकटवा की भूमिका पूरी तरह से निभाएगा। वह है एन.सी.पी. से सुनील दहिया। ओवरआल लड़ाई अकाली और कांग्रेस के बीच ही है। अकाली दल के लिए यह सीट इस बार इसलिए ज्यादा प्रतिष्ठापूरक बन गई है क्योंकि पिछले चुनाव में पार्टी का प्रत्याशी अवतार सिंह हित महज 46 वोट से हारा था।

तब और अब में काफी बदलाव आया है। अकाली दल ने इस सीट पर पूरी तरह से ताकत झोंक दी है। यहां तक कि पंजाब के मुखिया प्रकाश सिंह बादल, उपमुख्यमंत्री एवं पार्टी के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल सहित आधा दर्जन मंत्री इसी सीट पर दिन-रात एक किए हुए हैं। सिरसा का रुतबा भी अधिक है और वर्तमान में वह दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के महासचिव भी हैं। उनकी पत्नी इलाके से निगम पार्षद भी हैं। उधर, कांग्रेस पार्टी इस सीट पर हैट्रिक बनाना चाहती है।

चंदेला के ऊपर कई मामलों को लेकर आरोप था, जिसके चलते उनका टिकट काट दिया गया है। इलाके में चंदेला की पकड़ भी अच्छी खासी है। कुल 1,44, 736 वोट वाली इस विधानसभा सीट में सिख एवं पंजाबी वोट 45,851 है। यहां की मुख्य समस्या भी वही आम दिल्ली की है, सीवरेज, गंदा पानी और टूटी सड़कें। इस विधानसभा क्षेत्र का ज्यादा इलाका पॉश श्रेणी में आता है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You