दिल्ली चुनाव: दिग्गजों की साख दांव पर, 66 फीसदी वोट पड़े

  • दिल्ली चुनाव: दिग्गजों की साख दांव पर, 66 फीसदी वोट पड़े
You Are HereNational
Wednesday, December 04, 2013-5:48 PM

नई दिल्ली: दिल्ली विधानसभा की 70 सीटों के लिए मतदान खत्म हो चुका है। दिल्ली में 66 फीसदी वोट पड़े, लेकिन मतदान प्रतिशत 70 पार कर सकता है। यहां मुख्य मुकाबला कांग्रेस और बीजेपी के बीच है। हालांकि इस बार सभी की नजरें राजनीति के क्षेत्र के नये खिलाड़ी आम आदमी पार्टी पर टिकी हैं। आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल नई दिल्ली क्षेत्र से मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को सीधी चुनौती दे रहे हैं। यहां 74 फीसदी मतदान हुआ।

भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार हर्षवर्धन कृष्णानगर सीट से अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि दिल्ली में कमल का खिलना तय है। बीजेपी बाकी पार्टियों से काफी आगे है। कांग्रेस और आप दूसरे स्थान के लिए लड़ रही हैं। जबकि 15 साल से दिल्ली की बागडोर संभाल रहीं शीला दीक्षित निश्चिंत हैं। शीला दीक्षित ने सत्ता विरोधी लहर से इनकार करते हुए कहा कि दिल्ली का इतना विकास हुआ है कि दिल्लीवाले हाथ का ही साथ देंगे। इन दावों के बीच आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल आश्वस्त नजर आ रहे हैं। उन्होंने कहा, मैं परिणाम को लेकर काफी आश्वस्त हूं। यह मेरी नहीं, बल्कि दिल्ली की जनता की जीत होगी। मुझे भरोसा है कि लोग भ्रष्टाचार और भ्रष्टतंत्र के खिलाफ मतदान करेंगे।

सुबह सबसे पहले मतदान करने वालों में उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, मुख्यमंत्री शीला दीक्षित, बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार हर्षवर्धन, आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल शामिल रहे। चुनावी संभावनाओं के बारे में पूछे जाने पर सोनिया ने मुस्कराते हुए कहा, हम जीतेंगे। कांग्रेस की जीत का विश्वास व्यक्त करते हुए राहुल ने कहा कि शीला दीक्षित ने दिल्ली के लिए काफी अच्छा काम किया है। बीजेपी अध्यक्ष राजनाथ सिंह बोले, अगर विधानसभा चुनाव जीते तो इसका श्रेय किसी एक नेता को नहीं बल्कि पार्टी के हजारों कार्यकर्ताओं को जाएगा।

 दिल्ली के राजनीतिक इतिहास के सबसे दिलचस्प चुनाव में वोटिंग बढ़ाने के चुनाव आयोग के तमाम बावजूद लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।चुनाव अधिकारी ने बताया कि नगर के कुछ हिस्सों में ईवीएम मशीन में खराबी की खबर आई, लेकिन उन्हें ठीक कर लिया गया। आयोग के निर्देशों के मुताबिक वोटरों को पोलिंग बूथ में वोट डालने के लिए मोबाइल लेकर जाने नहीं दिया गया। मतदान केंद्रों पर मोबाइल फोन लेकर पहुंचे वोटरों को चुनाव अधिकारियों ने वापस लौटा दिया। कुछ लोगों के बिना वोट डाले वापस लौटने की भी खबर है। ऐसे मतदाताओं का कहना था कि इस बारे में चुनाव आयोग को पहले से ही सूचित करना चाहिए था, क्योंकि अब उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

इस बार कुल 810 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। इनमें 509 निर्दलीय उम्मीदवार हैं। राज्य के एक करोड़ 20 लाख से ज्यादा मतदाता आज उनकी किस्मत का फैसला करेंगे। आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल भी सुबह अपना वोट डाल कर आए। प्रदेश के सभी 11 हजार 993 मतदान केंद्रों पर सुरक्षा व्यवस्था पूरी तरह चाक-चौबंद है।

पुलिस के 32 हजार 801 जवान और अर्द्ध सैनिक बलों की 107 कंपनियां तथा होम गार्ड के 11 हजार 842 जवान सुरक्षा कार्य में लगाए गए हैं। प्रदेश के 11,000 से अधिक मतदान केंद्रों में से 630 मतदान केंद्रों की पहचान संवेदनशील और अत्यंत संवेदनशील मतदान केंद्रों के तौर पर की गई है। कड़ी सुरक्षा के बीच सुबह आठ बजे दिल्ली विधानसभा की 70 सीटों के लिए मतदान शुरू हो गया जिसमें मतदाता इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों के जरिये अपनी पसंद जाहिर करेंगे।

भाजपा ने 66 विधानसभा सीटों पर और कांग्रेस तथा आप ने सभी 70 सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़े किए हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में तीसरे स्थान पर रही बहुजन समाज पार्टी ने 69 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे हैं। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने 9 सीटों पर और समाजवादी पार्टी ने 27 सीटों पर प्रत्याशी खड़े किए हैं। चुनाव मैदान में कुल 224 निर्दलीय प्रत्याशी भी हैं। शांतिपूर्ण चुनाव सुनिश्चित करने के लिए दिल्ली पुलिस के 32,801 जवान और केंद्रीय अद्र्धसैनिक बलों की 107 कंपनियां तैनात की गई हैं। मतदान के लिए अधिक संख्या में मतदाताओं को प्रेरित करने के उद्देश्य से पहली बार 9 ‘‘मॉडल’’ मतदान केंद्र स्थापित किए गए हैं जिनमें बेहतरीन अवसंरचना दिखाई गई है।

अरविंद केजरीवाल की आप ने चुनावी परिदृश्य बदल दिया है। इस बात पर सबकी नजर है कि यह नयी पार्टी क्या सिर्फ मतों का विभाजन करने तक ही सीमित रहेगी या अब तक के अपने भ्रष्टाचार विरोधी रूख के चलते कुछ सीटें भी जीतेगी जैसा कि चुनावी सर्वेक्षणों में कहा जाता रहा है। दिल्ली तथा चार राज्यों के विधानसभा चुनावों को अगले साल होने जा रहे लोकसभा चुनावों के लिए सेमीफाइनल के तौर पर देखा जा रहा है। दिल्ली में तीन बार मुख्यमंत्री रहीं शीला दीक्षित चौथी बार भी बाजी अपनी ओर करना चाह रही हैं।

प्रचार के दौरान शीला ने जमकर अपनी उपलब्धियां गिनायीं और विकास का एजेंडा बताया। दूसरी ओर भाजपा प्रदेश में अपने लंबे वनवास को खत्म करने की कोशिश में है। पार्टी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार हर्षवर्द्धन ने वादा किया है कि अगर उनकी पार्टी सत्ता में आती है तो 30 दिन के अंदर बिजली की दर में 30 फीसदी की कटौती की जाएगी और सब्जियों के दाम कम किए जाएंगे।

भाजपा ने दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने के साथ साथ एक साल में प्रत्येक घर को सब्सिडी वाले 12 सिलिंडर देने का भी वादा किया है जबकि वर्तमान में ऐसे 9 सिलिंडर दिए जाते हैं। इसके अलावा पार्टी ने महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के उद्देश्य से उनके लिए एक समर्पित महिला सुरक्षा बल गठित करने का भी वादा किया है। अपने घोषणापत्र में कांग्रेस ने एक ‘‘सिंगल कमांड सिस्टम’’ की स्थापना का वादा किया है ताकि अधिकारियों से जुड़ी कई तरह की समस्याओं का समाधान एक ही जगह हो सके।

साथ ही पार्टी ने दिल्ली की अवसंरचना पर दबाव कम करने के उद्देश्य से पूरे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के लिए एक साझा आर्थिक क्षेत्र स्थापित करने का भी दावा दिया है। यातायात की समस्या दूर करने के लिए कांग्रेस के घोषणापत्र में डबल डेकर फ्लाईओवर के निर्माण की भी बात है। आप का कहना है कि वह सत्ता में आई तो 15 दिन के अंदर जन लोकपाल विधेयक पारित करेगी। इसके अलावा उसने बिजली की दर में 50 फीसदी की कटौती करने का वादा भी किया है।

पहली बार चुनाव मैदान में उतरी इस नयी नवेली पार्टी का यह भी कहना है कि अगर वह सत्ता में आई तो प्रत्येक घर को हर दिन 700 लीटर पानी मुफ्त मिलेगा। इसके अलावा मतदान संपन्न कराने के लिए 47 हजार 972 कर्मचारियों को तैनात किया गया है। इस बार चुनाव मैदान में सर्वाधिक 23 उम्मीदवार बुराडी से हैं जबकि सबसे कम चार उम्मीदवार पटेल नगर से हैं। मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, मिजोरम तथा राजस्थान में हुए विधानसभा चुनावों में मतदान प्रतिशत में हुई वृद्धि को देखते हुए दिल्ली में भी इस बार मतदान में बढोतरी का अनुमान है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You