विधानसभा चुनाव: इस रिकार्ड मतदान के मायने

  • विधानसभा चुनाव:  इस रिकार्ड मतदान के मायने
You Are HereNational
Thursday, December 05, 2013-12:08 AM

नई दिल्ली(अशोक शर्मा): दिल वालों की दिल्ली इस बार किसकी होगी, इसका पता आगामी 8 दिसम्बर को लगेगा लेकिन विधानसभा चुनाव में इस बार हुए रिकार्ड मतदान ने यह साबित कर दिया है कि मतदाताओं ने महंगाई और भ्रष्टाचार के खिलाफ खुलकर अपने अधिकार का प्रयोग किया है।

यह पहला मौका है, जब कई मतदान केंद्रों पर देर रात तक मतदान हुआ। इसमें राज्य चुनाव आयोग का प्रयास भी सफल और सराहनीय रहा है। चुनावी पंडितों की माने तो दिल्ली में पहली बार अधिक मतदान होने की वजह को एंटी इंक मबैंसी बताते हुए इसे सत्ता परिवर्तन का संकेत बताया जा रहा है।

 जिसकी वजह से वर्तमान सत्ता हिल सकती है। उनका मानना है कि दिल्ली सरकार की कई गलत नीतियों की वजह से जनता में रोष है और उसका नतीजा लोगों द्वारा मतदान के दौरान देखने को मिला है। युवा वर्ग ने भी मतदान में जमकर भाग लिया।

लेकिन एक बात का उल्लेख करना ठीक होगा कि गत लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा के जगमोहन और कांग्रेस के अजय माकन के बीच मुकाबला था। उस चुनाव में मतदान के आखिरी समय में कई हजार मतदाता अचानक मतदान केंद्र में पहुंच गये थे।

गेट बंद कर दिया गया था और सभी ने मतदान किया था। नतीजा यह निकला था कि जगमोहन काफी कम मतों के अंतर से चुनाव हार गये थे। हालांकि सभी दलों के नेताओं ने प्रचार किया। इसके बावजूद मतदाता खामोश था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You