शर्मिंदा होना तो दूर, अदालत में मुस्कुरा रहा था साई

  • शर्मिंदा होना तो दूर, अदालत में मुस्कुरा रहा था साई
You Are HereNational
Thursday, December 05, 2013-1:26 AM

रोहिणी कोर्ट : दिल्ली और गुजरात पुलिस की संयुक्त टीम द्वारा ट्रांजिट रिमांड के लिए रोहिणी स्थित महानगर दंडाधिकारी (उत्तरी-4) धीरज मोर की अदालत में पेशी के दौरान नारायण साई मुस्कुराता रहा था। नारायण साई बीच-बीच में न्यायाधीश के समक्ष अपने ऊपर लगे आरोपों को गलत बताता रहा।


इस बीच अदालत में बचाव पक्ष के वकील ने गुजरात पुलिस द्वारा दर्ज किए गए बलात्कार के मामले को गलत बताया और ट्रांजिट बेल की मांग की। वकील ने अपनी दलील में कहा कि पीड़ित लड़की अब तक कहां थी, 4 साल बाद उसने क्यों साई के खिलाफ मामला दर्ज करवाया। वकील ने कहा कि मामला दर्ज होने के बाद नारायण साई कहीं भाग नहीं रहे थे। उसके पिता आसाराम बापू पहले से ही जेल में हैं। लिहाजा एक पुत्र होने के नाते वे अपने पिता की रिहाई के लिए कानूनी मदद की तलाश में थे। इस बीच नारायण साई ने न्यायाधीश से कहा कि जब से उन्हें गिरफ्तार किया गया है, तब से एक भी रोटी खाने को नहीं दी गई है। इस पर अदालत ने साई को तुरंत खाना देने के आदेश दिए। 

भक्तों की जुटी रही भीड़, नहीं हो पाया दीदार :

नारायण साई की गिरफ्तारी खबर सुनते ही भारी संख्या में साई के समर्थक रोहिणी कोर्ट परिसर के बाहर जुट गए। दोपहर 12 बजे से शाम 6 बजे तक कोर्ट परिसर के बाहर समर्थकों की भीड़ बनी रही। समर्थकों में नारायण साई की एक झलक पाने की लालसा थी लेकिन कोर्ट के बाहर सुरक्षा व्यवस्था में तैनात अर्ध सैनिक बलों और पुलिस ने समर्थकों के इस लालसा पर पानी फेर दिया। कोर्ट से 24 घंटे की रिमांड मिलने के बाद, पुलिस की टीम साई को पिछले गेट से लेकर चली गई।

समर्थकों ने बिछाए सड़क पर फूल : 

ट्रांजिट रिमांड के लिए कोर्ट में पेशी से पहले साई के समर्थकों ने गेट नम्बर-1 के बाहर फूल बिछा दिए। उस फूल की सेज पर चलकर साई तो कोर्ट नहीं पहुंचे लेकिन सुरक्षा में जुटे पुलिस बल के साथ मीडिया कर्मी वहां से गुजरे। 

समर्थकों और विरोधियों के बीच झड़प :

दोपहर लगभग 2 बजे नारायण साई के समर्थकों के बीच कुछ विरोधी गुट पहुंच गए और विरोध करने लगे। इससे साई के समर्थक  भड़क गए और हंगामा शुरू कर दिया। इस बीच समर्थकों और विरोधियों के बीच झड़प भी हो गई। मौके पर मौजूद पुलिस बलों ने हंगामें को शांत करवाया।

मीडिया के साथ भी हाथापाई:

साई के समर्थक जहां साई की गिरफ्तारी का विरोध कर रहे थे। वहीं मीडिया के खिलाफ भी नारे लगा रहे थे। इस बीच कुछ समर्थकों ने मीडियाकर्मियों पर हमला भी किया और हाथापाई करने लगे।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You