सत्र आते ही सपा दर्ज करा देते हैं रिपोर्ट: नसीमुद्दीन

  • सत्र आते ही सपा दर्ज करा देते हैं रिपोर्ट: नसीमुद्दीन
You Are HereNational
Thursday, December 05, 2013-2:43 PM

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावती के ड्रीम प्रोजेक्ट में अरबों रुपये की कथित धांधली के आरोपी पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने इस सिलसिले में रिपोर्ट दर्ज करने को राजनीतिक विद्वेष बताते हुए कहा कि जब विधानमंडल का सत्र नजदीक आता है तो दबाव बनाने के लिए समाजवादी पार्टी सरकार ऐसी हरकत कर ही देती है। सिद्दीकी ने आज यहां कहा कि उनके खिलाफ साजिश की जा रही है ताकि सदन में सरकार की कमियों को नहीं उठाया जा सके। उन्होंने कहा कि सदन का सत्र नजदीक आने और लोकायुक्त की नियुक्ति के खिलाफ उच्चतम न्यायालय में चल रहे मुकदमे की तारीख नजदीक आने पर सरकार दबाव बनाने की कोशिश करती है।

उन्होंने कहा कि सरकार ने उनके खिलाफ आय से अधिक सम्पत्ति के मामले में भी रिपोर्ट दर्ज कराई थी लेकिन उसमें आरोप सिद्ध नहीं हुआ और उन्हें क्लीनचिट मिल गई। इसी तरह इसमें भी उन्हें क्लीनचिट मिलेगी। सिद्दीकी ने कहा कि लोकायुक्त की नियुक्ति के संबंध में उच्चतम न्यायालय में चल रहे मुकदमे की अगले हफ्ते तारीख है इसलिए दबाव बनाने के लिए उनके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करा दी गई है लेकिन वह और उनकी पार्टी दबाव में आने वाली नहीं है। सरकार के खिलाफ वह आवाज बुलन्द करते रहेंगे।

उन्होंने कहा कि उनके ऊपर उच्चतम न्यायालय से मुकदमा वापस लेने का दबाव बनाया गया जब उन्होंने मना कर दिया तो उन्हें स्मारकों
और पार्कों के कथित घोटाले के झूठे आरोप में फंसाने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने दोहराया कि लोकायुक्त का कार्यकाल गलत ढंग से बढ़ाया गया है। जब उनकी नियुक्ति ही गलत है तो उनकी रिपोर्ट पर कार्रवाई कैसे संभव है। गौरतलब है कि अखिलेश यादव सरकार ने इस घोटाले के संबंध में कल सिद्दीकी और पूर्व मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा समेत 19 लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने के आदेश दिए हैं।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You