जनलोकपाल के लिए 10 दिसंबर से अनशन पर अन्ना

  • जनलोकपाल के लिए 10 दिसंबर से अनशन पर अन्ना
You Are HereNational
Friday, December 06, 2013-5:55 AM

नई दिल्ली: अन्ना हजारे ने आज कहा कि वह जनलोकपाल विधेयक को पारित कराने के लिए महाराष्ट्र में अपने पैतृक गांव रालेगण सिद्धी में 10 दिसंबर से बेमियादी अनशन करेंगे। हजारे ने पहले घोषणा की थी कि वह संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन से दिल्ली में अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करेंगे। आज उन्होंने कहा कि उनकी हाल ही में एक सर्जरी हुई है और डॉक्टरों की सलाह पर उन्होंने आंदोलन का स्थान बदलकर अपने गांव में करने का फैसला किया है।

हजारे ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैंने भारत की जनता से वायदा किया था कि अगर सरकार जनलोकपाल विधेयक पारित नहीं करती तो मैं शीतकालीन स़त्र के पहले दिन से रामलीला मैदान में अनशन पर बैठूंगा। मेरा हाल में एक जटिल ऑपरेशन हुआ है और मैं पूरी तरह ठीक नहीं हूं। डॉक्टरों ने मुझसे सावधानी बरतने को कहा है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं दिल्ली के रामलीला मैदान के बजाय 10 दिसंबर से रालेगण सिद्धी में अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर बैठूंगा।’’ उन्होंने कहा कि आंदोलन उनके नवगठित संगठन ‘जनतंत्र मोर्चा’ के बैनर तले होगा।

हजारे ने कहा, ‘‘हमने अपने संगठन के तहत पिछले छह महीने में लोगों को जोडऩे के लिए सात राज्यों में 700 से अधिक रैलियां की हैं।’’ उन्होंने कांग्रेस नीत संप्रग और विपक्ष दोनों पर ही निशाना साधते हुए उनकी आर्थिक नीतियों को युवा विरोधी, छात्र विरोधी, गांव विरोधी और गरीब विरोधी कहा। हजारे ने कहा, ‘‘बहुराष्ट्रीय कंपनियों को लाने के बजाय सरकार को गांवों के विकास पर ध्यान देना चाहिए और वहां रोजगार के अवसर तैयार करने चाहिए। गांधीजी ने कहा था कि जब तक भारत के गांव विकसित नहीं हो जाते, देश विकसित नहीं होगा।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You