माकन बोले, मोदी को ट्विटर पर फॉलो करना चाहता हूं

  • माकन बोले, मोदी को ट्विटर पर फॉलो करना चाहता हूं
You Are HereNational
Friday, December 06, 2013-9:56 AM

नई दिल्ली: आजतक ने एजेंडा आज तक शुरू किया है जिसमें कई सवाल खड़े किए गए हैं कि क्यों किसी को पप्पू कहा जाता हैं, क्यों कोई किसी को साहबजादा और चुटेरा कहता है। आखिर क्यों राजनीति में गंदी बात होती है इन सभी बातों के लिए पर एजेंडा आज तक शुरू किया। आज तक के मंच पर गुरुवार को बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद और कांग्रेस के मीडिया प्रभारी अजय माकन पहुंचे। अजय माकन ने कहा कि बीजेपी अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने कहा था कि वे संसद में अच्छे विपक्ष की भूमिका निभाना चाहते हैं और इसके लिए उनका स्वागत करना चाहिए।

 

अजय ने कहा कि सुषमा स्वराज के खिलाफ 1998 में जब वह चुनाव हारे थे और चुनाव हारने वाला जीतने वाले को बधाई देने जाता है और जब अजय सुषमा को बधाई देने गए तो तो बड़ी होने के नाते उन्होंने सुषमा के पांव छुए और कहा कि आप चुनाव जीती हैं इसलिए बधाई देने आया हूं, इस पर सुषमा स्वराज ने माकन को गले से लगा लिया।

 

माकन ने कहा कि कई बार मेरा मन करता है कि मैं ट्विटर पर सुषमा स्वराज या रविशंकर प्रसाद को फॉलो करूं और जानूं कि वे लोग क्या ट्वीट कर रहे हैं लेकिन मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य ऐसा है कि ये मुमकिन नहीं है। माकन ने कहा कि  मैं जानना चाहता हूं कि नरेंद्र मोदी ने क्यों ट्वीट किया लेकिन अगर मैं मोजी को फॉलो करूंगा तो मीडिया एर नया ही माहौल बना देगी और सियासत इसकी इजाजात नहीं देती। मीडिया पर बोलते हुए माकन ने कहा कि मीडिया सिर्फ नेगेटिव चीजें दिखाती है, संसद में कई अच्छी बहसें होती हैं, वे नहीं दिखाई जातीं।

 

बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राजनीति में हास-परिहास होता रहना चाहिए लेकिन इसमें सीमा का उल्लघंन नहीं होना चाहिए। प्रसाद ने कहा कि सन् 67 में इस्राइल-अरब युद्ध हुआ और तब पेट्रोल की किल्लत थी। इंदिरा तब तांगे पर संसद आईं और अगले दिन अटल बिहारी वाजपेयी बैलगाड़ी पर आए थे तो ऐसा हास परिहास भी होता था राजनीति में लेकिन कोई अपनी सीमा नहीं लाघंता था।

 

माकने ने कहा कि  नई दिल्ली सीट से शीला चुनाव जीतेंगी और चौथी बार दिल्ली की सीएम बनेंगी। बीजेपी नेता प्रसाद ने कहा कि नरेंद्र मोदी को फेंकू कहा जाना गलत है। साथ प्रसाद ने मोदी का बचाव करते हुए कहा कि सोनिया गांधी को बीमार कहा तो उनका मकसद सोनिया का मजाक उड़ाना नहीं था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You