साम्प्रदायिक हिंसा निरोधक विधेयक निदंनीय विधान : भाजपा

  • साम्प्रदायिक हिंसा निरोधक विधेयक निदंनीय विधान : भाजपा
You Are HereNational
Saturday, December 07, 2013-7:06 PM

नई दिल्ली: साम्प्रदायिक एवं लक्षित हिंसा निरोधक विधेयक को स्वतंत्र भारत का सबसे निदंनीय विधान करार देते हुए भाजपा ने आज कहा कि अगर यह बन गया होता तो इससे मुजफ्फरनगर दंगों के लिए बहुसंख्यक समुदाय के लोग दंडित होंगे। राज्यसभा में विपक्ष के नेता अरूण जेटली ने कहा, ‘‘राष्ट्रीय सलाहकार परिषद की ओर से तैयार साल 2011 के मसौदे के बारे में मुझे किसी तरह का संदेह नहीं है कि यह स्वतंत्र भारत का सबसे निदंनीय विधान है।’’

विवादास्पद विधेयक को बांटने वाला और भेदभावपूर्ण करार देते हुए उन्होंने कहा, ‘‘मिसाल के तौर पर मुजफ्फरनगर दंगों को लें। अगर यह विधेयक अस्तित्व में होता और दोनों समुदाय के लोग जो दंगों के लिए दोषी थे, वहां मौजूद होते, तो उनमें से एक पर इस कानून के तहत अभियोग चलता, दूसरे पर नहीं।’’ कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने हालांकि कहा कि यह विधेयक घृणा और हिंसा की विचारधारा पर लगाम लगाने के लिए तैयार किया गया है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You