मीडिया में न हो कोई सरकारी दखल: रेड्डी

  • मीडिया में न हो कोई सरकारी दखल: रेड्डी
You Are HereNational
Wednesday, December 11, 2013-12:53 PM

नई दिल्ली: प्रेस की स्वतंत्रता की वकालत करते हुए केंद्रीय मंत्री एस.जयपाल रेड्डी ने संपादकीय कार्यों में बढ़ते हस्तक्षेप पर आज दुख जताया और कहा कि मीडिया को सरकार या किसी औद्योगिक घराने के दखल से पूरी तरह मुक्त होना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘आखिर किसी मंत्री को क्यों मीडिया में दखल देना चाहिए? आखिर क्यों मंत्री कुछ चुनिंदा संवाददाताओं को ही साक्षात्कार देने के लिए चुनते हैं? वे पूरे मीडिया का सामना क्यों नहीं कर सकते? आपको इन चीजों के बारे में सोचना चाहिए।’’

 

विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री अंतर्राष्ट्रीय प्रेस संस्थान की ओर से ‘एक्सिलेंस इन जर्नलिज्म-2013’ पुरस्कार देने के लिए आयोजित समारोह में बोल रहे थे। उन्होंने कहा, ‘‘प्रेस की स्वतंत्रता का क्या अर्थ है? इसका निश्चित तौर पर अर्थ है- सरकार के नियंत्रण से मुक्ति। क्या संपादक के लिए स्वतंत्रता नहीं होनी चाहिए? क्या आपके पास अब एक भी संपादक का संस्थान है?

 

मुझे तो यह संस्था अब समाप्त होती दिखाई देती है। संपादकीय बोर्ड और बिजनेस के बीच द्विशासन वाली पुरानी स्थिति अब दिखाई नहीं देती।’’उन्होंने इस बात पर दुख प्रकट किया कि अखबारों के मालिक और औद्योगिक घराने संपादकीय कार्यों में हस्तक्षेप कर रहे हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You