भारतीय वायुसेना के इतिहास में तब्दील हो गया मिग-21 एफएल

  • भारतीय वायुसेना के इतिहास में तब्दील हो गया मिग-21 एफएल
You Are HereNational
Wednesday, December 11, 2013-8:01 PM

कलईकुंडा (पश्चिम बंगाल): भारत के पहले सुपरसोनिक जेट मिग-21 एफएल ने बुधवार को कलईकुंडा हवाईअड्डे की हवाई पट्टी पर सुबह 9.45 बजे अंतिम बार उतरा और 50 सालों के लंबे सेवा के बाद भारतीय वायुसेना के इतिहास में तब्दील हो गया। 1963 में सेवा में शामिल किए जाने के बाद से लगभग हर चार लड़ाकू पायलटों में से एक पायलट इस विमान को उड़ा चुका है। इस विमान ने टरमक इलाके में आसमान में चार विमानों के समूह के साथ अंतिम उड़ान भरी।

तीन मिग-21-27 एमएल विमानों ने मिग-21 एफएल (टाइप-77) को सलामी दी। एयर चीफ मार्शल एन.ए.के ब्राउन ने, ऑपरेशनल कनवर्जन यूनिट (ओसीयू) के कमांडर कैप्टन वी.पी.सिंह की कमान में हुई परेड का निरीक्षण किया। टेल नंबर सी-1125 वालेमिग-21 एफएल को ‘एयुल्ड लेंग साइन’ की धुन के साथ बाहर लाया गया और विंग वॉकर इसके साथ मार्च कर रहे थे। सबसे युवा ओसीयू पायलट फ्लाइट लेफ्टिनेंट एल. नागराजन ने ब्राउन को मिग-21 एफएल लड़ाकू विमान के दस्तावेज सौंपे।

अपने उद्बोधन में ब्राउन के इसे भारतीय वायुसेना (आईएएफ) के इतिहास निर्णायक पल कहा। उन्होंने कहा, ‘‘आज का कार्यकम आईएएफ के  इतिहास का निर्णायक पल है, क्योंकि हम इस प्रतिष्ठित लड़ाकू विमान के जरिए लगभग पांच दशकों से चल रही उल्लेखनीय परिचालन सेवा के अंत पर पहुंच गए हैं।’’ इस अवसर पर ब्राउन ने कॉफी टेबल बुक और स्मारक डाक टिकट भी जारी किया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You