कई कांग्रेसी ‘आप’ के संपर्क में!

  • कई कांग्रेसी ‘आप’ के संपर्क में!
You Are HereNational
Thursday, December 12, 2013-12:15 PM

करनाल: दिल्ली में अप्रत्याशित और चमत्कारिक तरीके से राजनीति के पटल पर अचानक उभरे आप के प्रमुख केजरीवाल भले ही दिल्ली में अपनी सरकार बनाने में असमर्थ रहे हों, लेकिन कांग्रेस, भाजपा समेत अन्य दलों के लिए एक नया सबक बनकर उभरे केजरीवाल की लोकप्रियता का असर हरियाणा में भी होने लगा है। वहीं सूत्रों ने प्राप्त जानकारी के अनुसार कांग्रेस से हताश और निराश रहने वाले हरियाणा के कांग्रेस नेता अब केजरीवाल के दरबार में पहुंच गए हैं। यही नहीं करनाल लोकसभा सीट के लिए कई कांग्रेसी नेता अपना इंटरव्यू देने केजरीवाल के दरबार में पहुंचे।

दिल्ली के चुनावी परिणाम आने के बाद ही कई कांग्रेसी नेता आप के संपर्क में है। करनाल ही नहीं बल्कि अन्य जिलों के भी कांग्रेसी नेता केजरीवाल के संपर्क में है। वह नेता बताए जा रहे हैं जिन्हें अभी तक सत्ता में रहते हुए कुछ हासिल नहीं हुआ और पिछले 9 सालों से लगातार सी.एम. भूपेंद्र सिंह हुड्डा की आवाभगत में लगे हैं। नाम न छापने की शर्त पर एक नेता ने बताया कि महंगाई और भ्रष्टाचार के मुद्दे ने कांग्रेस को चार रा’यों में पीछे धकेल दिया है। कांग्रेस नेता ने बताया कि पहले भजन लाल कांग्रेस में थे तो उनकी जेब ढीली हो गई। बाद में हुड्डा सी.एम. बन गए, लेकिन और 14 सालों से लगातार वह संगठन के लिए खर्चा और समय बर्बाद करते आ रहे हैं, लेकिन उन्हें मिला कुछ नहीं।

अब उन्हें लगता है कि आप पार्टी लगातार बढ़त बना रही है और आने वाले समय में आप हरियाणा में भी कांग्रेस की हालत पतली कर सकती है। आपको बता दें कि हरियाणा सरकार में अभी भी विभिन्न निगमों और बोर्डों में चेयरमैन और सदस्यों के पद खाली पड़े है, लेकिन वह कार्यकत्र्ताओं को बांटे नही गए। हरियाणा में अगले कुछ महीनों में लोकसभा और करीब एक साल बाद विधानसभा के चुनाव होने है। ऐसे मे कांग्रेसी कार्यकत्र्ताओं को लगता है कि उनकी जेब पर आने वाले दिनों में ओर भी बोझ पडऩे वाला है।

जबकि उनके काम कुछ हुए नही है। ऐसे में कांग्रेस में टिके रहना उनके लिए अब दुर्भर हो गया है। कांग्रेस के लिए यह लगातार खतरे की घंटी है कि चुनावों से पहले ही संगठन के ही कई नेता केजरीवाल के संपर्क में है। कांग्रेस के कुछ नेताओं को लगता है कि आप पार्टी के छोटे से छोटे कार्यकत्र्ता ने बिना पैसे खर्च किए एम.एल.ए. का पद हासिल किया है। उससे आप की छवि और निखर गई है। गौरतलब है कि पिछले 9 सालों से हुड्डा के बिल्कुल करीब रहने वाले कर्मठ कार्यकत्र्ताओं की लगातार अनदेखी की जा रही है।

जिसके चलते अब वह हताश हैं। इसके अलावा ऐसे बहुत से कार्यकत्र्ताओं की लंबी लिस्ट है। जिन्हें पूरी तरह से दरकिनार रखा गया। उनकी हालत अब इस स्टेज पर है कि न कहते बने न उगलते। वर्षों से कांग्रेस की टिकट पर लडऩे वाले पूर्व विधायक जयसिंह राणा शायद इसलिए हुड्डा का दामन छोड़कर कुलदीप बिश्रोई के पास चले गए। इसके अलावा पानीपत के विधायक बलबीर पाल के विरोधी तेवर हरियाणा की जनता पहले ही देख चुकी है। लेकिन अब समय बदल गया है। पिछले 9 सालों से सता हासिल होने के बाद लाभ पद और कामकाज से वंचित रहे कांग्रेस के कर्मठ कार्यकत्र्ता अब हताश और निराश हो चुके हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You