टूरिज्म विभाग की फर्जी वैबसाइट से मचा हड़कम्प

  • टूरिज्म विभाग की फर्जी वैबसाइट से मचा हड़कम्प
You Are HereNational
Thursday, December 12, 2013-6:55 PM

नई दिल्ली (कुमार गजेन्द्र): टूरिज्म व्यवसाय से जुड़े लोगों ने इस बार टूरिज्म विभाग की वैबसाइट में ही सेंध लगा दी है। फर्जी वैबसाइट बनाए जाने की जानकारी मिलते ही पूरे विभाग में हड़कम्प मच गया है।

टूरिज्म मंत्रालय से मिली जानकारी के मुताबिक भारतीय टूरिज्म को प्रमोट करने के लिए 2002 में इनके्रडिबल इंडिया नाम से एक अभियान शुरू किया गया था। इसके तहत विदेशों में रहने वाले ऐसे विदेशियों को जो, भारत भ्रमण करना चाहते हैं, मंत्रालय की ओर से वैबसाइट के जरिए जानकारी देने के लिए एक वैबसाइट तैयार की गई थी।

टूरिज्म विभाग की ओर से इस वैबसाइट का नाम रखा गया था, डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डॉट इनके्रडिबल इंडिया डॉट ओआरजी। पर इसी नाम से मिलती जुलती फर्जी तरीके से 2 वैबसाइट तैयार कर दी गईं। पहली वैबसाइट का नाम रखा गया, इनके्रडिबल इंडिया टूरिज्म डॉट इन और दूसरी का नाम रखा गया टूरिज्म इंडिया डॉट कॉम, इनके्रडिबल इंडिया डॉट ओआरजी डॉट इन।

सूत्रों की मानें तो टूरिज्म विभाग की वैबसाइट के नाम से मिलते-जुलते नाम की वैबसाइट बनाने के पीछे जो मुख्य कारण बताए जा रहे हैं, उसके पीछे भारत घूमने आने वाले विदेशी सैलानियों को गुमराह करना है। बताया जा रहा है कि दिल्ली और अन्य राज्यों के बड़े होटल और टूरिज्म व्यवसाय से जुड़े लोगों की यह हरकत हो सकती है।

टूरिज्म मंत्रालय को जैसे ही इस गोरख धंधे की जानकारी मिली, मंत्रालय की ओर से तुरन्त इस बात की शिकायत पुलिस को की गई। मंत्रालय की ओर से दिल्ली पुलिस आयुक्त भीमसेन बस्सी को शिकायत भेजी गई थी, जिसके बाद पुलिस ने तुरन्त एफ.आई.आर. नंबर 237 दर्ज कर ली। पुलिस इस मामले की जांच में जुटी है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You