सिख दंगा मामला: मुआवजे वाली मांग पर होगी सुनवाई

  • सिख दंगा मामला: मुआवजे वाली मांग पर होगी सुनवाई
You Are HereNational
Thursday, December 12, 2013-7:39 PM

नई दिल्ली : वर्ष 1984 में दिल्ली कैंट में हुए सिख दंगे मामले की गवाह जगदीश कौर की उस याचिका को दिल्ली उच्च न्यायालय ने सुनवाई के लिए स्वीकार कर लिया है,जिसमें उन्होंने मुआवजा दिलाए जाने की मांग की है।
 
न्यायालय ने कौर को कहा है कि वह चाहे तो सरकार से मुआवजा लेने के लिए दिल्ली विधिक सेवा प्राधिकरण के समक्ष अपनी मांग रख सकती है। जहां तक मामले के आरोपियों से मुआवजा दिलाए जाने की बात है तो उस संबंध में अदालत मामले के आरोपियों की तरफ से सजा के खिलाफ दायर अपील पर सुनवाई करने के बाद ही निर्णय करेगी।

पूर्व में कौर की याचिका पर न्यायमूर्ति पी.के भसीन व न्यायमूर्ति वी.पी वैश की खंडपीठ ने केंद्र सरकार व दिल्ली सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा था।दिल्ली कैंट सिख दंगा मामले में निचली अदालत ने 9 मई को पूर्व निगम पार्षद बलवान खोखर,कैप्टन भागमल व गिरधारी लाल को उम्रकैद व  दो आरोपी पूर्व विधायक महेंद्र यादव और किशन खोखर को तीन साल कैद की सजा सुनाई थी।

हालांकि इस मामले में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सज्जन कुमार को संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया गया था। इन दंगों में एक ही परिवार के पांच सदस्यों की हत्या कर दी गई थी। इसी मामले में जगदीश कौर गवाह है। कौर ने मुआवजे की मांग करते हुए कहा है कि उनको अभी तक इस मामले में कोई मुआवजा नहीं मिला है।

इसलिए उनको मामले के आरोपियों से मुआवजा दिलाया जाए। वहीं मामले में सजा पाए आरोपियों ने भी निचली अदालत के फैसले को उच्च न्यायालय में चुनौती दे रखी है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You