एचआईवी संक्रमण: 75 लाख के मुआवजे के लिए SC का दरवाजा खटखटाया

  • एचआईवी संक्रमण: 75 लाख के मुआवजे के लिए SC का दरवाजा खटखटाया
You Are HereNational
Friday, December 13, 2013-6:17 PM

नई दिल्ली: हत्या के जुर्म में जेल में उम्र कैद की सजा भुगत रहे एक कैदी ने 75 लाख रूपए के मुआवजे के लिए आज उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया। इस कैदी का दावा है कि जेल में पिछले छह साल की कैद के दौरान वह अन्य बीमारियों के साथ ही एचआईवी के संक्रमण की चपेट में आ गया है। प्रधान न्यायाधीश पी सदाशिवम की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने इस कैदी की याचिका 17 दिसंबर को उचित खंडपीठ के समक्ष सूचीबद्ध करने का निर्देश दिया है।

वकील मनोहर सिंह बख्शी के माध्यम से इस कैदी ने पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ अपील दायर की है। इस कैदी का दावा है कि वह 2007 से पंजाब की जेल में बंद है और इसी दौरान उसे एचआईवी और फिर एचसीवी (हेपेटाइटिस सी) संक्रमण हो गया। इस कैदी ने हत्या के जुर्म में उसे दोषी ठहराने और इस अपराध के लिए उसे उम्र कैद की सजा सुनाने के निचली अदालत के निर्णय को भी चुनौती दी है। इस कैदी के मामले में अदालत का फैसला उच्च न्यायालय ने बरकरार रखा था।

कैदी ने याचिका में इस संक्रमण के लिए जेल प्रशासन की ‘त्रुटिपूर्ण प्रणाली’ मनमानी कार्यशैली और लापरवाही को जिम्मेदारी ठहराते हुए इसकी जांच कराने का भी अनुरोध किया है। यह कैदी चाहता है कि केन्द्रीय जेलों में बंद दूसरे कैदियों और विचाराधीन कैदियों के हितों की रक्षा के लिए दिशानिर्देश तैयार किए जाएं क्योंकि यदि इस ओर गंभीरता से ध्यान नहीं दिया गया तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं।

याचिका में कहा गया है कि खून की जांच में एचआईवी पाजिटिव आने पर उसकी पत्नी ने बेहतर इलाज का अनुरोध किया लेकिन उसकी गुहार पर अधिकारी ध्यान ही नहीं दे रहे हैं। याचिका के अनुसार अमृतसर मेडिकल कालेज के एआरटी सेन्टर में चार फरवरी को एक मरीज के रूप में उसका पंजीकरण हुआ है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You